DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खिताब जीतने की कोशिश करेगी ऑस्ट्रेलियाई टीम

खिताब जीतने की कोशिश करेगी ऑस्ट्रेलियाई टीम

ऑस्ट्रेलिया त्रिकोणीय वनडे सीरीज का खिताब जीतने से केवल एक कदम की दूरी पर है और मेजबान टीम बेस्ट ऑफ थ्री फाइनल्स के दूसरे मैच में बेहतरीन जज्बे का प्रदर्शन कर रही श्रीलंका के खिलाफ कल ही ट्राफी हासिल करने का प्रयास करेगी।
 
ऑस्ट्रेलिया ने कल ब्रिस्बेन श्रीलंका को त्रिकोणीय सीरीज के उच्च स्कोर वाले पहले रोमांचक फाइनल में श्रीलंका को 15 रन से शिकस्त देकर कामनवेल्थ बैंक ट्राफी जीतने की ओर कदम बढ़ाए। मेजबान टीम इसी लय को जारी रखने और कल ही सीरीज का परिणाम तय कराने के लिए बेताब होगी, लेकिन ऐसा तभी होगा जब उसके गेंदबाज अधिक अनुशासित प्रदर्शन करें जिन्होंने कल श्रीलंका के मध्य क्रम और पुछल्ले बल्लेबाजों के खिलाफ कुछ खास अच्छा प्रदर्शन नहीं किया था।
 
हालांकि ऑस्ट्रेलियाई टीम तीन फाइनल में 1-0 से आगे है लेकिन उसे कल के मैच से पहले कुछ चीजों पर ध्यान देना होगा। कप्तान माइकल क्लार्क ने भी स्वीकार किया कि उनके गेंदबाज पावरप्ले और अंतिम ओवरों में जूझ रहे थे।
 
क्लार्क इस बात से भी हैरान थे कि ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज नेट के दौरान गेंदबाजी में काफी वैरिएशन दिखा रहे हैं लेकिन क्रीज पर आते ही विपक्षी टीम के बल्लेबाजों के दबाव से इसे खो बैठते हैं। ऑस्ट्रेलियाई टीम की भारत पर टेस्ट सीरीज में सफलता बेन हिल्फेन्हास और जेम्स पैटिनसन के कंधों पर निर्भर रही है जिन्होंने कल बीती रात नौ ओवर में 95 रन गंवाए।

ऑस्ट्रेलिया ने मौजूदा सीरीज में उपलब्ध सभी तेज गेंदबाजों को आजमया लेकिन वह ब्रेट ली, रेयान हैरिस, मिशेल स्टार्क हों या फिर हिल्फेन्हास या पैटिनसन, कोई भी अच्छी गेंदबाजी नहीं कर पाया। सभी का औसत प्रत्येक ओवर में साढ़े पांच रन रहा।
 
वहीं, स्पिनर जेवियर डोहर्टी ने पूरी सीरीज के दौरान प्रभावशाली प्रदर्शन किया और प्रत्येक ओवर में 4.18 रन गंवाए और नौ विकेट हासिल किए। शेन वाटसन (पांच विकेट, 3.28 इकोनमी), क्लिंट मैके (10 विकेट, 4.78 इकोनमी) और डेविड हस्सी (चार विकेट, 4.86 इकोनमी) इस बात का सबूत हैं कि वनडे क्रिकेट में सफलता के लिए केवल तेज गेंदबाजों पर ही निर्भर नहीं रहा जा सकता।

ऑस्ट्रेलियाई टीम अपने सलामी बल्लेबाज डेविड वार्नर की फिटनेस को लेकर भी चिंतित होगी क्योंकि बीती रात 163 रन की शानदार पारी के दौरान उनकी ग्रोइन की मांसपेशियों में खिंचाव आ गया था और उनका कल उपलब्ध होना संदिग्ध है।

वार्नर की चोट से पीटर फोरेस्ट के लिए दरवाजे खुल जाएंगे जिन्होंने बल्ले से अच्छा प्रदर्शन किया है और पिछली छह पारियों में 41.16 के औसत से 247 रन बनाए हैं जिसमें एक शतक भी शामिल है। वहीं, श्रीलंकाई टीम ने इस सीरीज में ऑस्ट्रेलिया की कमजोरियों को सार्वजनिक करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है।
 
श्रीलंका के लिए सकारात्मक बात यह है कि उसके दोनों सलामी बल्लेबाज कप्तान महेला जयवर्धने और तिलकरत्ने दिलशान ने शुरुआती ओवरों में आक्रामक रवैया अपना लिया है और ज्यादातर मौकों पर इससे उन्हें फायदा भी हुआ है। युवा स्टार दिनेश चांदीमल भी मध्यक्रम में काफी मजबूत रहे हैं और वह एंकर की भूमिका शानदार तरीके से निभा रहे हैं।
 
श्रीलंका के आक्रामक मध्यक्रम ने त्रिकोणीय सीरीज में कई मौकों पर ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों को परेशान किया है और वे बचे हुए मैचों में इसी प्रदर्शन को बरकरार रखने की कोशिश करेंगे।

श्रीलंका ने थिसारा परेरा की जगह बैक अप के तौर पर चामरा कापूगेदारा को बुला लिया है। टीम कल के फाइनल में एंजेलो मैथ्यूज के फिट होने की उम्मीद कर रही होगी क्योंकि वह महत्वपूर्ण क्षण में अपने इस आलराउंडर से अच्छे प्रदर्शन के लिए निर्भर रहती है।

इसे देखते हुए जयवर्धने और उनकी टीम कल एडिलेड की बल्लेबाजी के मुफीद पिच पर अच्छे प्रदर्शन की आस लगाए होगी। श्रीलंका लेसिथ मलिंगा से भी कल सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन की उम्मीद लगाए होगा। यह तेज गेंदबाज पिछले तीन में से दो मैचों में अच्छी गेंदबाजी नहीं कर पाया है जिसने पिछले हफ्ते भारत और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ क्रमश: 96 और 74 रन गंवाए।

टीमें इस प्रकार है-
श्रीलंका: महेला जयवर्धने (कप्तान), तिलकरत्ने दिलशा, कुमार संगकारा, दिनेश चांदीमल, लाहिरू थिरिमाने, नुआन कुलशेखरा, लसिथ मलिंगा, रंगना हेराथ, धम्मिका प्रसाद, फरवेज महरूफ और उपुल थरंगा।

ऑस्ट्रेलिया: माइकल क्लार्क (कप्तान), मैथ्यू वेड, शेन वाटसन, पीटर फोरेस्ट, माइकल हस्सी, डेविड हस्सी, डान क्रिस्टियन, जेवियर डोहर्टी, ब्रेट ली, बेन हिल्फेन्हास और जेम्स पैटिनसन।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:खिताब जीतने की कोशिश करेगी ऑस्ट्रेलियाई टीम