DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

13 मार्च तक CBI रिमांड पर कुशवाहा

13 मार्च तक CBI रिमांड पर कुशवाहा

पूर्व मंत्री बाबूसिंह कुशवाहा को शनिवार को सीबीआई ने विशेष अदालत (सीबीआई) में पेश किया। उनके साथ देवरिया के निवर्तमान विधायक आरपी जायसवाल को भी अदालत में पेश किया गया। सीबीआई ने अदालत से पूछताछ के लिये पूर्व मंत्री को 14 दिन की रिमांड में भेजने की मांग की।

अदालत ने कुशवाहा से घोटाले में उनकी संलिप्ता पर सवाल किया, उन्होंने इससे साफ इंकार करते हुये कहा कि सारे निर्णय मुख्यमंत्री खुद लेती थीं, घोटाले में उनका कोई लेना देना नहीं है। अदालत ने दोनों आरोपियों को 13 मार्च तक रिमांड पर भेज दिया।

शाम करीब छह बजे सीबीआई विशेष न्यायाधीश डॉ. ए.के. सिंह की अदालत में पहुंची और अदालत से कुशवाहा को 14 दिन की पुलिस रिमांड पर देने की दर्खास्त की। अदालत ने कुशवाहा से पूछा कि घोटाले में आपका क्या रोल है। इस पर कुशवाहा ने कहा कि विभागीय मंत्री का इस मामले में कोई हस्तक्षेप नहीं था। एनआरएचएम के लिये तीन समीतियां थीं। दो मुख्य सचिव की अध्यक्षता में और एक मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में। तीनों की बैठकें मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई।

कुशवाहा ने कहा कि उन्हें घोटाले से संबंधित आजमगढ़ की एक शिकायत मिली थी जिस पर कार्रवाई की जा रही है। उनके कार्यकाल से पहले ही एनआरएचएम में यह खेल चल रहा था। कुशवाहा के अधिवक्ता अजय विक्रम सिंह ने अदालत में उनकी पैरवी की।

दूसरे आरोपी देवरिया से बसपा निवर्तमान विधायक आर.पी. जायसवाल ने अदालत में कहा कि उनकी नौ कंपनियां हैं। बैंक खातों में पैसा उनके शेयरों का है, न कि घोटाले का। उन्होंने आरोप लगाया कि सीबीआई उन्हें सिर्फ इसलिये धमकाकर बयान लेना चाहती है कि क्योंकि वह कुशवाहा के मित्र रहे हैं।

जायसवाल के अधिवक्ता महीपाल ने अदालत से कहा कि सीबीआई जायसवाल को धमकाकर बयान लेने का प्रयास कर रही है। अदालत ने जिरह सुनने पर दोनों को 13 मार्च तक रिमांड पर भेज दिया।  अदालत ने रिमांड के दौरान के दौरान शारीरिक प्रताड़ना न देने के लिये भी सीबीआई को सचेत किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:13 मार्च तक CBI रिमांड पर कुशवाहा