DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गुजरात दंगों पर SIT की रिपोर्ट नहीं होगी सार्वजनिक

गुजरात दंगों पर SIT की रिपोर्ट नहीं होगी सार्वजनिक

कांग्रेस के पूर्व सांसद एहसान जाफरी की पत्नी की उस अर्जी को शनिवार को एक स्थानीय अदालत ने खारिज कर दिया, जिसके तहत उन्होंने गुजरात दंगों की एसआईटी रिपोर्ट को सार्वजनिक करने की मांग की थी। गौरतलब है कि वर्ष 2002 के गुजरात दंगों के दौरान जाफरी मारे गए थे। 

मेट्रपोलिटन मजिस्ट्रेट एमएम भट्ट ने अर्जी खारिज करते हुए कहा कि विशेष जांच टीम (एसआईटी) की ओर से रिपोर्ट से जुड़ी सामग्री अभी अदालत को पेश किया जाना बाकी है। अदालत ने कहा कि अभी तक जांच टीम ने पूरी रिपोर्ट नहीं सौंपी है, इस स्तर को कोई निष्कर्ष नहीं निकाला जा सकता। इसलिए रिपोर्ट पर कोई कार्रवाई करने की जरूरत नहीं है। अदालत ने इससे पहले एसआईटी को निर्देश दिया था कि वह 15 मार्च तक पूरी रिपोर्ट उसे सौंप दे।

सुप्रीम कोर्ट ने सितंबर, 2011 के आदेश में एसआईटी को मजिस्ट्रेट अदालत में अपनी अंतिम रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया था। साथ ही, यह भी कहा था कि यदि मजिस्ट्रेट इस मामले को बंद करने का फैसला करते हैं तो उन्हें एसआईटी की पूरी रिपोर्ट शिकायतकर्ता को मुहैया करनी होगी और इसे बंद करने से पहले उसकी दलील सुननी होगी।

पिछले महीने एसआईटी ने जकिया की एक शिकायत पर अपनी अंतिम रिपोर्ट बंद लिफाफे में सौंपी थी। जकिया की शिकायत में गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी और अन्य शीर्ष नेता, पुलिस अधिकारियों तथा नौकरशाहों को 2002 के दंगों के मामले में आरोपी बनाने की मांग की गई थी। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गुजरात दंगों पर SIT की रिपोर्ट नहीं होगी सार्वजनिक