DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एशियाई महिला मुक्केबाजी में अगुवाई करेंगी मेरीकॉम

एशियाई महिला मुक्केबाजी में अगुवाई करेंगी मेरीकॉम

पांच बार की विश्व चैंपियन एम सी मेरीकॉम 16 से 26 मार्च तक मंगोलिया की राजधानी उलानबटोर में होने वाले एशियाई परिसंघ महिला मुक्केबाजी चैंपियनशिप में भारतीय चुनौती की अगुवाई करेंगी।

इस टूर्नामेंट के जरिये महिला मुक्केबाज नौ से 20 मई के बीच चीन के क्विनहुआंगडाओ में होने वाली विश्व चैंपियनशिप के लिए तैयारी करना चाहेंगी जो ओलंपिक क्वालीफाईंग के लिए पहला और एकमात्र टूर्नामेंट भी है।

एशियाई चैंपियनशिप में भारतीय महिलाओं ने हमेशा अच्छा प्रदर्शन किया। पहली बार यह प्रतियोगिता 2001 में आयोजित की गयी थी। अनुभवी मुक्केबाज एल सरिता और मेरीकॉम ने इसमें हमेशा अच्छा प्रदर्शन किया।

सरिता ने अब तक सभी आठ टूर्नामेंट में पदक जीता। उन्होंने 2001 में रजत पदक हासिल करने के बाद लगातार चार स्वर्ण पदक जीते। मेरीकॉम 2001 में पदक नहीं जीत पायी थी लेकिन इसके बाद उन्होंने तीन स्वर्ण और एक रजत पदक हासिल किया।

मेरीकॉम अब 51 किग्रा में भाग लेंगी जिसमें वह अब भी नई हैं लेकिन उन्हें अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद है। पुणे में अभ्यास कर रही मेरीकॉम ने कहा कि एशियाई चैंपियनशिप मेरे लिए बड़ी परीक्षा होगी। यह एशियाई खेल 2010 के बाद 51 किग्रा में मेरे लिए पहला बड़ा टूर्नामेंट होगा।

मेरीकॉम ने कहा कि एशिया में कई अच्छी मुक्केबाज है इसलिए इस टूर्नामेंट से मुझे विश्व चैंपियनशिप और ओलंपिक जैसे महत्वपूर्ण टूर्नामेंट के लिए अपने खेल का आकलन का करने का अच्छा मौका मिलेगा।

भारतीय टीम इस प्रकार है-
पिंकी जांगड़ा (48 किग्रा), एम सी मेरीकॉम (51 किग्रा), सोनिया लाथर (54 किग्रा), के मंदाकिनी चानू (57 किग्रा), एल सरिता देवी (60 किग्रा), मीना रानी (64 किग्रा), मोनिका सान (69 किग्रा), पूजा रानी (75 किग्रा), भाग्यबती कचारी (81 किग्रा) और कविता चाहल (81 किग्रा से अधिक)।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एशियाई महिला मुक्केबाजी में अगुवाई करेंगी मेरीकॉम