DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

16 रु में बासमती चावल!

बेड़ो आवासीय स्कूल के पांच छात्र जहरीला दूध पीकर मर, 100 बीमार हुए। यह कड़वा सच अब भी सरकार और कल्याण विभाग के आंख-कान खोलने के लिए शायद पर्याप्त नहीं है। वरना सरकार कम से कम खाने-पीने के उन सामानों के बार में थोड़ा गौर करती, जो बच्चों को आज भी खिलाया जा रहा है। अब आप तनिक सोचिये कि 16 रुपये किलो बासमती चावल किस बाजार में बिकता है? लेकिन झारखंड सरकार इसी रट पर बासमती चावल खरीदती है।ड्ढr उसी तरह 2पये 50 पैसे किलो मूंग की दाल, 32.50 रुपये किलो अरहर दाल, 78 रुपये किलो पनीर, 74 रुपये किलो किशमिश।ड्ढr पता नहीं कल्याण विभाग के काबिल अफसर इस भीषण महंगाई में इतने कम रट पर चावल, दाल, पनीर जसी खाद्य सामग्री कैसे खरीदकर आवासीय स्कूलों के बच्चों का पेट भर रहे हैं।ड्ढr स्कूली बच्चों के लिए कल्याण विभाग द्वारा निर्धारित मीनू देखने के बाद पता चलता है कि यह किसी फाइव स्टार होटल के भोजन से कम नहीं है। लेकिन इसके पीछे का सच तो कुछ और बयां करता है?

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 16 रु में बासमती चावल!