अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

काराकाट संसदीय क्षेत्र: नाम ही नहीं भूगोल भी बदल गया

ाराकाट नया संसदीय क्षेत्र बना है। बिक्रमगंज संसदीय क्षेत्र तथा बिक्रमगंज विधानसभा क्षेत्र अब नहीं रहे। काराकाट संसदीय क्षेत्र में औरंगाबाद जिला के गोह, नवीनगर और ओबरा तथा रोहतास जिले के तीन विधानसभा क्षेत्रों को नोखा,डिहरी और काराकाट को इस संसदीय क्षेत्र में शामिल किया गया है। नए परिसीमन में बिक्रमगंज विधानसभा और लोकसभा क्षेत्र का नाम बदल गया है। पुराने विक्रमगंज संसदीय क्षेत्र में बिक्रमगंज,दिनारा,नोखा,काराकाट,डेहरी और भोजपुर जिले के पीरो विधानसभा क्षेत्र शामिल थे। बिक्रमगंज विधानसभा क्षेत्र को काराकाट से जोड़ दिया गया है। इस संसदीय क्षेत्र के नाम को बदलने को लेकर लोगों ने आंदोलन भी किया था। पहले कहा गया था कि बिक्रमगंज का नाम नहीं बदलेगा,लेकिन नाम बदल गया। यह महा नाम का बदलना नहीं है।ड्ढr ड्ढr इस संसदीय क्षेत्र के भूगोल के बदलने के कारण सामाजिक समीकरणों में भारी भी परिवर्तन की संभावना है। 2004 के चुनाव में जेडी-यू के अजीत कुमार सिंह ने आरोडी के राम प्रसाद सिंह को 58,801 मतों से पराजित किया। श्री सिंह को 3,05,3मत मिले थे और श्री राम प्रसाद सिंह को 2,46,5मत मिले। बाद में हुए उप चुनाव में अजीत सिंह की पत्नी मीना सिंह चुनी गईं। आगामी चुनाव में जद यू से मीना सिंह,श्रीभगवान सिंह कुशवाहा, राजद से कांति सिंह, इलियास हुसैन, राम प्रसाद कुशवाहा, डा.अशोक सिंह की चर्चा है।ड्ढr ड्ढr देखना है कि दोनों पार्टिया किस प्रत्याशी को टिकट देती हैं। बसपा के उपेंद्र कुमार शर्मा और माले के अरुण कुमार सिंह मैदान में उतरंगे। काराकाट 1में ब्लाक बना। देवमार्कण्डेय गांव में एक प्रसिद्ध सूर्य मंदिर है। काराकाट नामक एक गांव है। काराकाट में ब्लाक कार्यालय नहीं है, बल्कि गोड़ारी में है। ब्लाक मुख्यालय के पूरब में तरारी प्रखंड है। पश्चिम में राजपुर संझौली है। उत्तर में बिक्रमंगज और दक्षिण में नासिरीगंज प्रखंड है। 20 पंचायतों का ब्लाक है। काराकाट प्रखंड की आबादी 17है। इसमें अनुसूचित जाति की आबादी 32,076 है। खेतिहर मजदूरों की संख्या 11,350 और काश्तकारों की संख्या 2,626 है। काराकाट संसदीय क्षेत्र में मतदाताओं की संख्या 13,60,8है।ड्ढr ड्ढr काराकाट संसदीय क्षेत्र इंद्रपुरी बराज से ही शुरू हो जाता है और यह दनवार बिहटा में सामाप्त हो जाता है। इंद्रपुरी से पश्चिम में नवीनगर विधानसभा क्षेत्र पड़ता है,ाो काराकाट लोकसभा में आाता है। सोन के दूसरी तरफ औरंगाबाद का ओबरा विधानसभा क्षेत्र आता है। ओबरा कालीन उद्योग के लिए प्रसिद्ध है। ओबरा विधानसभा क्षेत्र का दाउदनगर ऐतिहासिक स्थान है। दाउद खां औरंगजेब के सिपहसलार थे। उन्हीं के नाम पर दाउदनगर बना। यहां दाउद खां का किला है। 1में सचिवालय गांलीकांड के नायकों में शहीद हुए जगतपति कुमार ओबरा के निकट खरांटी गांव के थे। काराकाट संसदीय क्षेत्र में नोखा विधानसभा क्षेत्र के नासरीगंज राजपुर और नोखा ब्लॉक, डिहरी विधानसभा क्षेत्र के अकोढ़ी गोला और डिहरी ब्लॉक शामिल हैं। काराकाट विधानसभा क्षेत्र में बिक्रमगंज,काराकाट और संझौली ब्लाक, गोह विधानसभा के गोह हसपुरा और गोह ब्लॉक, रफीगंज ब्लॉक की पौथू ईटार, लट्टा और सिहुली ग्राम पंचायतें शामिल हैं। ओबरा विधानसभा के ओबरा और दाउदनगर ब्लॉक शामिल हैं। नवीनगर विधानसभा क्षेत्र के बारुण ब्लॉक,नवीननगर ब्लॉक की महुऑव, अंकोरहा, सोनोरा, राजपुर, चन्द्रगढ़, बैरिया, सिमरी धमनी, कंकेर, केरका, मझिऑवा, नाऊर, बेलाई, पीपरा, ठेंगनी और तोल ग्राम पंचायतें और नवीनगर (एन.ए) शामिल हैं। बिक्रमगंज संसदीय क्षेत्र से कमल सिंह, रामसुभग सिंह, शिवपूजन सिंह, रामअवधेश सिंह, तपेश्वर सिंह, रामप्रसाद सिंह, कांति सिंह, वशिष्ठ नारायण सिंह तथा अजित सिंह जीतते रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: काराकाट संसदीय क्षेत्र: नाम ही नहीं भूगोल भी बदल गया