अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संसद में प्रवेश की कुछ शर्तें

रिपोर्ट की दुर्दशा न हो जाय सच्चर कमेटी की रिपोर्ट ने मुस्लिम समुदाय की सामाजिक, शैक्षणिक एवं आर्थिक खस्ताहालत की सच्चाई को पेश कर दिया है। गोपाल सिंह हाईकमेटी की रिपोर्ट की दुर्दशा हमें मालूम है, उसका कोई क्रियान्वयन नहीं हुआ। हम चाहते हैं कि सच्चर कमेटी रिपोर्ट का क्रियान्वयन हो एवं गोपाल सिंह हाईकमीशन की रिपोर्ट की तरह इसकी भी दुर्दशा न हो। अब आने वाली केन्द्र सरकार को इसे योजनाबद्ध तरीके से लागू करना होगा। मुसलमानों की असली समस्या गरीबी और अशिक्षा है। मुस्लिम स्त्रियों की दशा तो और भी नीचे है। हुसैन उदयपुरी, उदयपुर पर्यावरण क्यों नहीं है मुद्दा? बिगड़ा पर्यावरण भी चुनावी मुद्दा होना था। पर्यावरण के संदर्भ में देश की स्थिति लगातार बिगड़ती जा रही है। हिमालय के छोटे बड़े हिमनद ग्लेशियर पिघल कर सिकुड़ते जा रहे हैं। समुद्री सतह बढ़ती जा रही है एवं सबसे अधिक संकट सुंदर वन पर है। वर्षा के अनियमित होने से बाढ़ एवं सूखे की स्थिति के साथ-साथ कृषि उत्पादन भी घट रहा है। भूमिगत जल लगातार नीचे जा रहा है एवं इसमें प्रदूषण भी फैल गया है। महानगर व नगर हरियालीविहीन होकर सीमेंट के जंगलों में परिवर्तित हो चुके हैं। देश का बिगड़ता पर्यावरण आर्थिक सामाजिक एवं राजनैतिक स्थिति को प्रभावित करगा। डॉ. ओ. पी. जोशी, इंदौर एसे भी चुन सकते हैं पीएम हमारा सुझाव है कि आगामी लोकसभा में प्रधानमंत्री का चुनाव भी सीधे हो तथा सभी राजनैतिक दल लोकसभा सदस्यों के साथ-साथ प्रधानमंत्री पद के लिए भी अपने प्रत्याशी घोषित करं। इसलिए केन्द्र सरकार के गठन के बाद लोकसभा में इस प्रकार का प्रस्ताव पारित किया जाए। हमारा सुझाव यह भी है कि लोकसभा या प्रधानमंत्री पद का प्रत्याशी कम से कम पांच वर्ष तक ग्राम प्रधान या नगर परिषद का सदस्य रह चुका हो, जिससे केवल गंभीर एवं उपयुक्त राजनैतिक प्रत्याशी ही चुनाव लड़ें। कृष्णमोहन गोयल, अमरोहा चला गांधी बनने कल तक खाया हलुआ पूड़ीड्ढr अब जूते चप्पल खाऊं।ड्ढr मां खादी की चादर दे देड्ढr मैं गांधी बन जाऊं।। शरद जायसवाल, कटनी, मध्य प्रदेश

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: संसद में प्रवेश की कुछ शर्तें