अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आडवाणी यूपीए सरकार के साथ काम करने को तैयार

प्रधानममंत्री मनमोहन सिंह को इतिहास का सबसे कमजोर प्रधानमंत्री करार देने वाले और हर भाषण में संप्रग सरकार को कोसने वाले भाजपा के शीर्ष नेता लालकृष्ण आडवाणी आर्थिक संकट हल करने के लिए उनकी सरकार से मिलकर काम करने कौ तैयार हैं। लेकिन उनकी शर्त है कि प्रस्ताव कांग्रेस की तरफ से आना चाहिए। उन्होंने शुक्रवार को यहां हिन्दुस्तान टाइम्स लीडरशिप समिट में भारत के भविष्य की अपनी परिकल्पना पर लंबा व्याख्यान देने के बाद एक सवाल के जबाव में हंसते हुए उक्त पेशकश की। प्रश्नकर्ता ने सवाल किया था कि अमेरिका में तमाम राजनीतिक कटुता के बावजूद राष्ट्रीय महत्व के मसलों पर दोनों प्रमुख पार्टियां मिलकर काम करती हैं, तो भारत में आपकी पार्टी कांग्रेस के साथ सहयोग के लिए तैयार क्यों नहीं होती। उन्होंने सुझाव से सहमति व्यक्त की बल्कि खुलासा किया कि एक दिन पहले देश के उद्यमियों के प्रतिनिधिमंडल ने भी उनसे यही अपील की थी कि देश को वैश्विक आर्थिक संकट से बचाने के लिए भाजपा और कांग्रेस परस्पर सहयोग करें। आडवाणी ने कहा सत्ता के लिए गठबंधन की जगह देश में संकट हल करने का गठबंधन (कोएलिशन ऑफ क्राइसिस) होना चाहिए। आडवाणी का व्याख्यान पार्टीगत तेवर लिये था। उन्होंने मनमोहन सिंह सरकार पर आरोप लगाया कि वह वैश्विक संकट की वजह से पैदा आर्थिक संकट को स्वीकार ही नहीं कर रही जबकि हालत बहुत खराब है। बैंक न केवल बिजिनिस को लोन नहीं दे रहे। आपस में भी वे लोन नहीं दे रहे। मैन्यूैफैक्चरिंग, रीअल्टी, स्टील, सिविल एविएशन, टूरिम सभी बुरी तरह प्रभावित हैं। असंगठित क्षेत्र में लाखों लोगों की नौकरियां जा रही हैं। विकास दर 6 प्रतिशत होने वाली है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आडवाणी यूपीए सरकार के साथ काम करने को तैयार