अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजरंग

लोग झूठ बोलता हैलोग झूठो कहता है की आधी आबादी बहुते बोलती है। सूबे में एक विरांगना हैं, जिन्हें लाखों लोग चुन कर भेजते हैं, लेकिन कुछो नयी बोलती हैं। हाल ही में रांची से अलग हुए जिले का प्रतिनिधित्व करती हैं। पहले एगो कॉलेज में प्रोफेसर भी थीं। अब एमपी का पद संभाल रही हैं। समझ गये न कौन है? का कहें, नहीं समझे, नाम के अनुरूप बहुत ही सुशील हैं। लोकसभा में चार साल गुजार दीं, लेकिन क्षेत्र के लिए एको सवाल नयी उठायीं। तबो लोग कहता है कि महिलाएं बहुत चभर-चभर करती हैं। इ बार फिर लोग को पंजा दिखाके चुनाव जीतने का जुगत भिड़ा रही थीं। नये जिले के लोग से कहती फिर रही हैं कि आपलोग के मनमाफिक अधिकारी ला रहे हैं। सूबे के मुखिया जी को लिस्ट थमा दिया है। लिस्टवा को ऊ कोई वैल्यू नहीं दे रहे हैं। हमीं लोग के विधायक के समर्थन से सरकार चला रहे हैं और लिस्ट देते हैं, तो ध्यान नहीं देते हैं। इलाके में हुंकार भी भर रही हैं कि- इ दुश्मनी बहुत महंगी पड़ेगी ठाकुर। अब दुश्मनी किसको महंगी पड़ेगी, इ तो आने वाला समय ही बतायेगा, लेकिन उन्होंने इतना तो साबित कर ही दिया कि महिलाएं बहुत अधिक नहीं बोलती हैं। यदि बोलतीं, तो देश की सबसे बड़ी पंचायत में चार साल से अधिक समय गुजार देने के बाद भी एको बात नहीं कहतीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राजरंग