अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जहानाबाद संसदीय क्षेत्र: तीन जिलों से मिलकर बना क्षेत्र

ाहानाबाद संसदीय क्षेत्र तीन जिलों के विधानसभा क्षेत्रों से मिलकर बना है। जहानाबाद संसदीय क्षेत्र में अरवल जिले का अरवल और कुर्था, जहानाबाद जिले का जहानाबाद,घोसी और मखदुमपुर तथा गया जिले का अतरी विधानसभा क्षेत्र शामिल है। पुराने जहानाबाद संसदीय क्षेत्र से पटना जिले का मसौढ़ी विधानसभा क्षेत्र निकल गया है और गया जिले का अतरी शामिल हुआ है। जहानाबाद जिले के किसी विधानसभा क्षेत्र के नाम में परिवर्तन नहीं हुआ है। मसौढ़ी सुरक्षित क्षेत्र बन गया है। 2004 के चुनाव में राजद के गणेश प्रसाद सिंह ने जेडी यू के अरुण कुमार को 46,438 मतों से पराजित किया।ड्ढr ड्ढr श्री सिंह को 4,00,063 मत मिले थे और श्री अरुण कुमार को 3,53,625 मत। राजद से गणेश प्रसाद सिंह, मुंद्रिका सिंह यादव और सुरंद्र सिंह यादव की चर्चा है। लोजपा से अरुण कुमार चुनाव मैदान में उतरंगे तो,ाद यू से जगदीश शर्मा की चर्चा है। जहानाबाद में 1812 के आसपास केवल 700 घर थे। आईन-ए-अकबरी में भी जहानाबाद के बार में कहा गया है कि 17वीं सदी में यह जगह अकाल से काफी प्रभावित थी और कई लोग भूख से मर गए थे। मुगल शासक औरंगजेब ने यहां एक मंडी जहांआरा के नाम से बनवाई थी। बाद में इसका नाम ही जहांआराबाद हो गया जो कालांतर में अपभं्रश होकर जहानाबाद हो गया। 1 अगस्त 1में गया जिले से अलग होकर एक स्वतंत्र जिले के रूप में जहानाबाद अस्तित्व में आया। जहानाबाद में 1760 में एक कपड़ा फैक्ट्री की स्थापना हुई थी। फैक्ट्री के साथ आसपास के 22 सौ बुनकर जुड़े थे। यह मोरहर- दरधा के तट पर बसा है। एक जमाने में डचों ने जहानाबाद में एक बंगला बनवाया था। 1857 में विद्रोहियों ने जहानाबाद थाने को जला दिया था और दारोगा को पेड़ पर लटका दिया था। आजादी के बाद यह किसान आंदोलन और खासकर स्वामी सहाानंद के काम-काज का केंद्र बन गया।ड्ढr ड्ढr सत्तर के दशक में यह नक्सली गतिविधियों का गढ़ बन गया। 2005 में जहानाबाद जेल पर माओवादियों ने कब्जा कर लिया था और बड़ी संख्या में माओवादी जेल से भाग गए थे। जहानाबाद जिले में 12 ब्लाक तथा 161 पंचायतें हैं। जिले का क्षेत्रफल 156वर्ग किलोमीटर है। जहानाबाद जिले की आबादी 1,514,315 है। इसमें 1,38053 हिन्दू तथा 124,14मुसलमान हैं। अनुसूचित जाति की आबादी 174738 है,ाो आबादी का 18.8प्रतिशत है। यह पिछड़ा हुआ जिला है। इस जिले की साक्षरता दर 56.03 प्रतिशत हैं और 4प्रतिशत आबादी गरीबी रखा के नीचे बसती है। दलित समुदाय में खेतिहर मजदूरों की तादाद 81.2 प्रतिशत से अधिक है। जिले की प्रति व्यक्ित आय 2पए है। जिले के 71.73 प्रतिशत लोगों के पास टेलीफोन, रडियो ,साइकिल की सुविधा उपलब्ध नहीं है। शहरी आबादी सिर्फ 7.40 प्रतिशत है। हाार हेक्टेयर भूक्षेत्र है,ािसमें 63 हाार हेक्टेयर में खेती होती है। जिले का 71.50 प्रतिशत क्षेत्र सिंचित है। जहानाबाद के ब्ैांकों में 46,704 लाख रुपए जमा हैं,ाबकि ब्ैांकों ने सिर्फ 11,883 लाख रुपए ऋण दिए हैं। जहानाबाद संसदीय क्षेत्र से सत्यभामा, चंद्रशेखर सिंह, एच.एल.पी.सिंह, महेंद्र प्रसाद, रामाश्रय प्रसाद सिंह, सुरंद्र प्रसाद यादव, अरुण कुमार तथा गणेश प्रसाद सिंह जीतते रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जहानाबाद संसदीय क्षेत्र: तीन जिलों से मिलकर बना क्षेत्र