अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हत्या के खिलाफ बंद रहा बुंडू

चार वर्षीय रौनक साहू उर्फ हंसराज की हत्या के विरोध में बुंडू बंद शांतिपूर्ण रहा। लोग बच्चे की हत्या के लिए पुलिस को दोषी ठहरा रहे थे। इधर, पुलिस की लापरवाही के विरोध में लोगों ने अपने प्रतिष्ठान बंद रखे। बाजार नहीं खुले। बुंडू बस स्टैंड से भी एक भी गाड़ी नहीं चली। लोग हत्यार की अविलंब गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे।ड्ढr इधर, गमगीन माहौल में नाना बालमुकुंद साव के घर से रौनक की लाश को पोस्टमार्टम कराने के लिए रांची ले जाया गया। पोस्टमार्टम कराने के बाद जब शव बुंडू पहुंचा, तो सैकड़ों लोग शवयात्रा में शामिल होने के लिए उमड़ पड़े। लोगों को यह भी कहते सुना गया कि रौनक के परिजनों ने अपहरणकर्ताओं पर इतना ज्यादा दबाव बनाया कि घबराकर अपहरणर्ताओं ने उसे मार डाला। माले नेता भीष्म महतो ने रौनक की हत्या पर रोष व्यक्त करते हुए हत्यार की गिरफ्तारी की मांग की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हत्या के खिलाफ बंद रहा बुंडू