फ्लाइओवर, हाइवे गंगा पुल सपना बना - फ्लाइओवर, हाइवे गंगा पुल सपना बना DA Image
17 नबम्बर, 2019|8:31|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फ्लाइओवर, हाइवे गंगा पुल सपना बना

सूबे में सरकार के असमय बदलते रहने से प्राथमिकताएं भी बदलती रहीं। इसका सीधा असर विकास पर पड़ा। विजन का नाम ही बेमानी है। 2002-03 में रलवे ओवरब्रिज निर्माण कार्य के बाद किसी बड़े प्रोजेक्ट पर काम शुरू नहीं हो सका। फ्लाइओवर तथा साहेबगंज में गंगा पुल का निर्माण सपना ही रहा। राजधानी में आउटर रिंग रोड का निर्माण हो रहा है। एक फेा पर काम शुरू हुआ, लेकिन योजना घिसट रही है। अभी सात फेा पर काम होना है। यह कब तक पूरा होगा, कोई नहीं बता सकता। गोविंदपुर- जामताड़ा- दुमका- साहेबगंज (310 किमी) सड़क को एक्सप्रेस हाइवे बनाने की महत्वाकांक्षी योजना भी लंबे समय तक लटकी रही। अब इसे एडीबी के सहयोग से डबल लेन बनाया जाना है। निर्माण पर 1064 करोड़ की लागत आयेगी।ड्ढr साहेबंगज में गंगा पुल का डीपीआर वर्षो पहले बना, लेकिन फाइलों में रह गयी। राजधानी में रातू रोड तथा पिस्का मोड़ में फ्लाइओवर बनाने की योजना फिलहाल एनएचएआइ की सातवें फेा में है। मामला फिािविलिटी स्टडी में लटका है। आरओबी प्रोजेक्ट के तहत सूबे में अब तक दस पुल बनाये गये हैं। और चार पुलों का निर्माण होना है। 2002-03 में तत्कालीन मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी और पथ निर्माण मंत्री सुदेश महतो ने नये राज्य में विकास का मार्ग प्रशस्त करने के लिए इस प्रोजेक्ट पर केंद्र से पहल की थी। अफसोस, अगले किसी बड़े प्रोजेक्ट पर काम शुरू नहीं हो सका।ड्ढr 14 आरओबी के निर्माण पर 163 करोड़ की लागत आयेगी। इसमें केंद्र और राज्य का हिस्सा आधा-आधा है। रलवे ने 2003 में एजेंसी के रूप में कोंकण रलवे को यह काम सौंपा था। वैसे यह प्रोजेक्ट भी स्पीड में नहीं है। दो साल में इस प्रोजेक्ट को पूरा करना था। लेकिन भूमि अर्जन समेत विभिन्न अड़चनों- तकनीकी कारणों से प्रोजेक्ट खिंचता गया। कोंकण के डीसीइ जीबी नागेंद्रा के मुताबिक दिसंबर के अंत तक डालटनगंज-कारी रलवे स्टेशन के बीच आरओबी चालू हो जायेगा। अगले साल धनबाद के पास रगुंनिया फाटक, खलारी तथा फुसरो में आरओबी का काम पूरा होगा। ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: फ्लाइओवर, हाइवे गंगा पुल सपना बना