अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिल्डरों ने घटाए दाम, फिर भी नहीं हैं खरीदार

खरीदारों की राह तकते-तकते अब बिल्डर्स व डेवलेपर्स थकने लगे हैं। उनके पैसे फंसे पड़े हैं, माल तैयार है, पर लेने वाले नदारद। कई बिल्डर्स ने रेट 15-25 फीसदी तक कम कर दिए, तो कुछ ने तरह-तरह की स्कीम का लालच दिया। फिर भी खरीदार नहीं। बाजार के इस रुख को देखते हुए बिल्डर्स आने वाले समय में कीमतों में और कमी का मूड बना रहे हैं। कोई आश्चर्य नहीं कि अगले छह माह के भीतर रट 20 फीसदी के आसपास और कम हो जाएं। अभी एनसीआर में आम लोग वेट एंड वाच की नीति अपना रहे हैं। दुनिया भर में एक के बाद एक धराशायी होती दिग्गज कंपनियां और घरलू शेयर बाजार के रुख से लोग सहम गए हैं। बाजार विश्लेषकों का मानना है कि अभी फिलहाल रियल एस्टेट कंपनियों को कुछ राहत तभी मिल सकती है जब हाउसिंग लोन 7 प्रतिशत के आसपास आ जाए। वर्ना आनेवाले समय में बाजार और नीचे आएगा। लेकिन आम लोगों का मानना है कि एनसीआर में बिल्डरों ने प्रॉपर्टी की कीमतों को ओवरप्राइज्ड कर रखा है और अब भी कीमतों में कमी की खासी गुंजाइश है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बिल्डरों ने घटाए दाम, फिर भी नहीं हैं खरीदार