अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राज्यहित में सबको सोचना होगा

सीएम शिबू सोरन ने कहा है कि वह किसी निजी कंपनी के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन जो यहां रहता है, उसे राज्य हित में सोचना होगा, चाहे टाटा हो या कोई और। जो भी यहां पैदा हुआ, वह झारखंडी है। उसे यहां के विकास से जुड़ना होगा। किसी को यहां से बाहर निकालने वाली कोई बात नहीं है। सोरन ने उक्त बातें 23 नवंबर को सेंट्रल लाइब्रेरी हाल में स्व. एनके सिंह के कुरमाली भाषा वैज्ञानिक अध्ययन शोध का लोकार्पण करते हुए कहीं।ड्ढr मानवशास्त्री प्रो पीएन महतो ने कहा कि राज्य के आंदोलनकारियों का इतिहास सुरक्षित रखने के लिए हिस्ट्री कमिशन का गठन करना होगा। मौके पर बीके महतो एवं सिद्धेश्वर ने भी अपने विचार रखे। डॉ दिनेश्वर ने पुस्तक के विषय पर प्रकाश डाला। युगल किशोर ट्रस्ट के चंद्रकांत मेहता ने अतिथियों का स्वागत किया। कार्यक्रम का संचालन प्रो अशोक सिंह एवं धन्यवाद ज्ञापन डॉ एचएन सिंह ने किया। इस अवसर पर केशव महतो कमलेश, राजाराम महतो, प्रो मुकुंद मेहता, डॉ एमपी सिंह, डॉ रमेश पांडेय, प्रो कुमारी बासंती, गोविंदचंद्र महतो, काजल पासवान, अनवर एजाज, किशन लोहिया, नवीन चचंल आदि उपस्थित थे।ड्ढr सम्मानित किये गये सहयोगी : स्व. एनके सिंह के कुरमाली भाषा वैज्ञानिक अध्ययन शोध के प्रकाशन में सहयोग करने वालों को सीएम शिबू सोरन ने शाल ओढ़ा कर सम्मानित किया। इनमें स्व. सिंह की पत्नी पुष्पा सिंह, डॉ दिनेश्वर प्रसाद, संजय कुमार राव, कृष्ण कुमार, रामदेव प्रसाद सिंह, उपेंद्र सिंह एवं अशोक सिंह शामिल हैंड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राज्यहित में सबको सोचना होगा