अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नकली मोबिलफैक्ट्री पकड़ाई

राजधानी के कंकड़बाग इलाके में नकली मोबिल बनाने वाली फैक्ट्री का भंडाफोड़ करते हुए रविवार को पुलिस ने पांच धंधेबाजों को गिरफ्तार कर लिया। मोबिल निर्माता कंपनी विडॉल के डिस्ट्रीब्यूटर (कुमार इंटरप्राइजेज) की आड़ में पिछले कई वर्षो से यह गोरखधंधा चल रहा था। पुरानी बाइपास सड़क पर तिवारी बेचर के समीप स्थित कुमार इंटरप्राइजेज से तलाशी के दौरान पुलिस ने करीब 100 ड्रम मोबिल, 4 बोरा प्लास्टिक दाना, 2 बोरा मोबिल साफ करने वाला केमिकल, मिक्सचर मशीन, रिफाइन मशीन, मोबिल पैक करने वाला डिब्बा समेत करीब 40 लाख की संपत्ति बरामद की है। जब्त किये गये मोबिल में 10 ड्रम तैयार, 50 ड्रम रिफाइंड और 21 ड्रम कालाजला हुआ शामिल है।ड्ढr ड्ढr गिरफ्तार आरोपितों में कुमार इंटरप्राइजेज का सुपरवाइजर मोहन प्रसाद (खाजेकलां) व मैनेजर रंजीत मिश्रा (कंकड़बाग) के अलावा तीन कर्मचारी लेदू सिंह, अरविन्द राम व बेला महतो शामिल हैं। इस काले धंधे का ‘मास्टर माइंड’ डिस्ट्रीब्यूटर (मालिक) राजकुमार गुप्ता फिलहाल फरार है जिसकी तलाश में पुलिस ने दबिश बढ़ा दी है। दरअसल गुप्त सूचना के आधार पर कंकड़बाग थानाध्यक्ष अभय नारायण सिंह ने दल-बल के साथ दिन में करीब एक बजे कुमार इंटरप्राइजेज में छापेमारी की। तलाशी के दौरान वहां रखे गये सामान व मशीन देख कर पुलिस का शक यकीन में बदल गया और फिर गिरफ्तारी व बरामदगी की कार्रवाई शुरू हो गई। बहरहाल धंधेबाजों के शातिर खेल की असलियत सामने आने के बाद पटना पुलिस के साथ ही पेट्रॉलियम से जुड़े व्यवसायियों के बीच भी खलबली मच गई है। थानाध्यक्ष ने बताया कि डिस्ट्रीब्यूटर होने के कारण इन धंधेबाजों को नकली मोबिल बेचने में ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ती थी।ड्ढr साथ ही मोबिल पहुंचाने के लिए कुछ टेम्पो भी रखे गये थे। शहर के अलावा और किन जिलों या प्रदेशों में नकली मोबिल सप्लाई किये जाते थे, इस बाबत पुलिस छानबीन कर रही है। वैसे अब तक की पड़ताल में बिहार के अलावा दूसर राज्यों में भी नकली मोबिल सप्लाई किये जाने की बात सामने आ रही है। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए पुलिस कई संभावनाओं पर अनुसंधान कर रही है ताकि धंधे की जड़ और इससे जुड़े नेटवर्क को ध्वस्त किया जा सके।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नकली मोबिलफैक्ट्री पकड़ाई