अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पेसमेकर लगाने वाली मशीन की धड़कन रुकी

इंदिरा गांधी हृदय रोग संस्थान (आईजीआईसी) में पेसमेकर लगवानेवाले मरीजों की धड़कन अब बैठने लगी है। दिल की धड़कन कमजोर होने के कारण संस्थान में भर्ती होने के बाद भी यह स्थिति बनी हुई है। स्वतंत्रता सेनानी ब्रजेश्वर प्रसाद उर्फ बिरजू इसी इंतजार में छह दिनों से वार्ड में पड़े हुए हैं। उनका सब्र अब टूटने लगा है। देश में सर्वाधिक पेसमेकर लगाने वाले दूसर संस्थान के मरीज अब पेसमेकर लगवाने के लिए परशान हैं।ड्ढr ड्ढr चिकभिंडा, अनीसाबाद मुहल्ला निवासी श्री प्रसाद के परिवारवालों का कहना है कि उन्होंने संस्थान के चिकित्सकों से बार-बार पेसमेकर लगाने का अनुरोध किया। इसके बाद भी स्थिति स्पष्ट नहीं की जा रही है। खुद स्वतंत्रता सेनानी बिरजू खौंफजदा है कि पेसमेकर के इंतजार में कहीं धड़कन ही बन्द न हो जाए। वे संस्थान के दूसर तल्ले के बेड नम्बर 228 पर भर्ती हैं। संस्थान में औसतन हर दिन तीन मरीजों को पेसमेकर लगाया जाता है। पेसमेकर नहीं लगने के कारण मरीजों का बैगलॉग बढ़ गया है। इधर संस्थान के प्रभारी निदेशक डा.हरन्द्र कुमार ने बताया कि कैथलैब में स्थापित कार्डियक कैथ मशीन शुक्रवार को अचानक खराब हो गयी। इसके कारण तत्काल पेसमेकर लगाना असंभव है।हालांकि मशीन खराब होने के तत्काल बाद इस संबंध में संबंधित कंपनी को सूचित कर दिया गया। मंगलवार को कंपनी के इंजीनियर कोलकाता से आ जाएंगे। मशीन शीघ्र ठीक होने की संभावना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पेसमेकर लगाने वाली मशीन की धड़कन रुकी