DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जज सौमित्र सेन ने डय़ूटी ज्वाइन की

भ्रष्टाचार के आरोपों में बर्खास्तगी की कार्रवाई का सामना कर रहे कोलकाता हाईकोर्ट के जज जस्टिस सौमित्र सेन ने हाइकोर्ट में बैठना शुरू कर दिया है। जस्टिस सेन के इस तरह डय़ूटी ज्वाइन करने से मुख्य न्यायाधीश और केंद्र सरकार की स्थिति असहा हो गई है। चार माह पूर्व देश के मुख्य न्यायाधीश ने प्रधानमंत्री को पत्र लिख कर उनके खिलाफ महाभियोग की कार्रवाई की संस्तुति की थी। खास बात यह है कि सेन के खिलाफ केंद्र सरकार की एक कमेटी भी भ्रष्टाचार के आरोपों की पुष्टि कर चुकी है। कोर्ट के सूत्रों के अनुसार जस्टिस सेन प्रशसनिक साइड में कोर्ट में बैठ रहे हैं लेकिन उन्हें न्यायिक कार्य नहीं दिया गया है। हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस एसएस निज्झर ने उन्हें चेंबर भी आवंटित कर दिया है। विधि मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार जस्टिस सेन जब तक जज हैं वह हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के प्रशासनिक नियंत्रण में है। इसमें देश के मुख्य न्यायाधीश और केंद्र सरकार कुछ नहीं कर सकते क्योंकि हाईकोर्ट अपने आप में संवैधानिक और स्वायत्त निकाय है। जस्टिस सेन मुख्य न्यायाधीश जस्टिस बालाकृष्णन का त्यागपत्र देने का आग्रह पहले ही ठुकरा चुके हैं। उधर सरकार भी सेन के खिलाफ महाभियोग की कार्रवाई से बच रही है क्योंकि सरकार में उसके दिन बचे खुचे ही हैं। 50 लाख रुपये की हेराफेरी करने के आरोप लगने के बाद जस्टिस सेन से नवंबर 2006 में न्यायिक कार्य वापस ले लिया गया था। यह आरोप जज बनने से पूर्व 1ा है जब वह एक केस में कोर्ट रिसीवर थे। इसी वजह से पिछले दिनों मुख्य न्यायाधीश ने हाईकोर्टों को भेजी एडवाइजरी में कहा है कि कोर्ट रिसीवर रह चुके वकीलों को जज बनने से हतोत्साहित करं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जज सौमित्र सेन ने डय़ूटी ज्वाइन की