DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिखने लगा मंदी का असर

केंद्र सरकार के तमाम दावों और प्रयासों के बावजूद अब देश में भी मंदी का असर साफ दिखने लगा है। टाटा के जमशेदपुर संयत्र में जहां छह दिन के लिए उत्पादन पूरी तरह ठप हो गया, वहीं वाहन उद्योग के उत्पादन में भी 15 से 50 फीसदी कमी आयी है। विकास दर 7 ही रहेगी : मोंटेकड्ढr योजना आयोग के उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह अहलुवालिया ने कहा है कि इन्फ्रास्ट्र्क्चर ही देश की अर्थव्यवस्था के लिए संजीवनी बनेगी। उन्होंने कहा कि चालू वित्तीय वर्ष में आर्थिक विकास दर कमोवेश 7 फीसदी रहेगी। बिजनेस पेज परविमानन विमान सेवाएं घाटे में. एयर इंडिया ने तो दाम भी घटाने की घोषणा की हैवाहन उद्योग टाटा मोटर्स को 500 करोड़ के नुकसान की आशंका बाजार बिकवाली की वजह से बीएसइ 208 व एनएसई 54 अंक टूटाटाटा कमिंस भी आज से पांच दिन बंदड्ढr जमशेदपुर। टाटा मोटर्स पर मंदी की मार से टाटा-कमिंस भी अछूता नहीं है। वहां बंदी के बाद टाटा-कमिंस में भी प्रबंधन ने बुधवार से ब्लाकक्लोजर का नोटिस चिपका दिया है। अमेरिकी कंपनी कमिंस और टाटा मोटर्स की संयुक्त उद्यम टाटा-कमिंस ऑटोमोबाइल के लिए इंजन बनाती है। टाटा मोटर्स में बंदी से टाटा-कमिंस में डिमांड पर असर पड़ा है।। नोटिस के मुताबिक 26 से 30 तक कंपनी में ब्लाकक्लोजर रहेगा। बंदी में कर्मियों को आधा यानी दो दिन के वेतन से वंचित होना पड़ेगा। एचइसी का भी माल फंसाड्ढr रांची। मंदी के कारण एचइसी में आठ करोड़ का माल फंसा है। विभिन्न प्रतिष्ठानों से मिले कार्यादेशों का निर्माण समय पर एचइसी ने कर दिया है, लेकिन कंपनियों द्वारा इसे नहीं मंगाया जा रहा है। इसमें सबसे अधिक उपकरण स्टील कंपनियों के हैं। इसके अलावा भेल, भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर के भी सामान शामिल हैं।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दिखने लगा मंदी का असर