अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो व्यावसायिक समूहों पर छापा

आयकर विभाग ने किशनगंज के दो बड़े व्यावसायिक ग्रुप और एक चर्चित डॉक्टर के कई ठिकानों पर छापेमारी कर करोड़ों की चल-अचल संपत्ति का खुलासा किया है और उससे जुड़े दस्तावेज जब्त किए गए हैं। आयकर विभाग की अलग-अलग टीमों ने गुरुवार को रतनलाल अग्रवाल एण्ड ग्रुप के किशनगंज, दालकोला और कोलकाता स्थित कई ठिकानों पर छापेमारी की। यह ग्रुप मुख्य रूप से आयरन एण्ड स्टील और हार्डवेयर के व्यवसाय से जुड़ा है। इस ग्रुप के अलग-अलग ठिकानों पर छापेमारी के दौरान आयकर की टीम ने करीब 0 लाख रुपए नकद जब्त किए है। एक दर्जन बैंक खातों का भी पता चला है। इसके अलावा किशनगंज में ही गोविन्द प्रसाद अग्रवाल एण्ड ग्रुप की चाय की कंपनी और फ्लॉवर मिल सहित अन्य ठिकानों पर छापेमारी की गयी। तीसरी छापेमारी किशनगंज के एक जाने माने चिकित्सक डॉ. मोहन लाल जैन के आवास और क्िलनिक पर हुई। डॉक्टर के ठिकानों से करीब 15 लाख रुपए से अधिक नकद, तीन-चार लॉकर, एक दर्जन बैंक खाते और जमीन जायदाद में भारी निवेश से संबंधित दस्तावेज भी आयकर के हाथ लगे हैं। आयकर विभाग के बिहार और झारखण्ड के निदेशक(जांच) एस.डी.झा ने पूछने पर छापेमारी की पुष्टि की है। वहीं आयकर सूत्रों के अनुसार करीब सौ अधिकारियों की अलग-अलग टीम ने दो व्यावसायिक ग्रुपों के अलावा डॉक्टर के ठिकाने पर एक साथ धावा बोला। हार्डवेयर, ऑयरन एण्ड स्टील के कारोबार से जुड़े ग्रुप के ठिकानों और गोदामों पर छापेमारी के दौरान बड़े स्टॉक का भी पता चला है। वहीं डॉक्टर जैन के बार में कहा जा रहा है कि वे सूद और बंधक के धंधे से भी जुड़े हैं और दस्तावेजों में मरीजों की संख्या और आमदनी को कम करके दिखाया जा रहा था। आयकर विभाग यह भी पता लगाने की कोशिश में है कि डॉक्टर के पास कितने की संपत्ति बंधक है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दो व्यावसायिक समूहों पर छापा