DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हजारे ने सरकार पर लगाया विश्वासघात का आरोप

हजारे ने सरकार पर लगाया विश्वासघात का आरोप

लोकपाल विधेयक पर सरकार की मंशा पर शंका जताते हुए अन्ना हजारे ने उस पर आरोप लगाया कि वह बार-बार उनकी टीम के साथ विश्वासघात कर रही है। उन्होंने कहा कि अगर संसद के शीतकालीन सत्र में कारगर लोकपाल विधेयक पारित नहीं किया गया तो वह अपने आंदोलन की योजना पर दृढ़ हैं।

एक रैली को यहां संबोधित करते हुए उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार की ओर से आश्वासनों के बावजूद बार-बार विश्वासघात किया गया, जिसने विधेयक के पारित होने के बारे में हमें संशय में डाल दिया है। हजारे ने कहा कि अगर विधेयक पारित होता है तो ठीक है या फिर प्रदर्शन होगा। अगर विधेयक पारित होता है तो 27 दिसंबर को मैं प्रधानमंत्री को फूल भेंट करूंगा।

हजारे ने लोकपाल विधेयक के संसद के मौजूदा शीतकालीन सत्र में पारित नहीं होने की स्थिति में आगामी 27 दिसंबर से अनशन पर बैठने की धमकी दी है। उन्होंने यह भी स्पष्ट कर दिया कि सीबीआई को लोकपाल के दायरे में लाने पर कोई समझौता नहीं होगा। उन्होंने कहा कि हमें यह सुनिश्चित करना है कि एक जनवरी को जेलों में तनिक भी जगह नहीं बचे।

हजारे कारगर लोकपाल विधेयक के संबंध में अपने अभियान के लिए समर्थन जुटाने यहां आए हैं। हजारे बेंगलूर से यहां पहुंचे हैं। उन्होंने कहा कि अगर सरकार लोकपाल विधेयक पर अपने वादे को पूरा नहीं करेगी तो जेल भरो शुरू किया जाएगा।

74 वर्षीय गांधीवादी सामाजिक कार्यकर्ता ने कहा कि जेल जाने में कुछ भी शर्मनाक नहीं है क्योंकि देश की खातिर राष्ट्रीय नेताओं ने पहले ऐसा किया है। बाद में संवाददाताओं से बातचीत में हजारे ने कहा कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह बेदाग और स्पष्टवादी हैं लेकिन रिमोट कंट्रोल, जो खुद को प्रधानमंत्री समझते हैं, की वजह से कार्रवाई नहीं कर सकते।

हजारे ने कहा कि उन्हें मत्यु से डर नहीं लगता है और अगर देश की सेवा में उनकी जान भी चली जाती है तो वह सम्मानित महसूस करेंगे। सामाजिक कार्यकर्ता ने कहा कि लोग दिल के दौरा से मरते हैं। मुझे मौत का भय नहीं हैं। अगर देश सेवा में मेरी मौत हो जाती है तो मैं सम्मानित महसूस करूंगा।

उन्होंने लोगों से देश से भ्रष्टाचार को उखाड़ फेंकने को कहा। उन्होंने कहा कि मैंने छह विकेट (महाराष्ट्र के भ्रष्ट मंत्री) लिए हैं और 100 अधिकारियों को (जो भ्रष्ट थे) उनके घर भेजा जा चुका है। अगर आप सब एक-एक भी लेंगे तो भारत भ्रष्टाचार से मुक्त होगा।

हजारे ने कहा कि कुछ लोगों ने उनके खिलाफ 11 मामले दायर किए हैं। उन्होंने उनसे एक और मामला दर्ज कराने को कहा ताकि एक दर्जन पूरा हो जाए। उन्होंने कहा कि एक और मामला दर्ज कराएं ताकि यह एक दर्जन पूरा हो जाए। हजारे ने कहा कि उन्होंने काफी पहले घर छोड़ दिया और कभी वापस लौटकर नहीं गए और देश की सेवा में लगातार काम करते रहे।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हजारे ने सरकार पर लगाया विश्वासघात का आरोप