DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फिर बढ़ सकते हैं पेट्रोल के दाम

फिर बढ़ सकते हैं पेट्रोल के दाम

सरकारी तेल विपणन कंपनियों को यदि इजाजत मिली तो पेट्रोल की कीमत इस सप्ताह 65 पैसे प्रति लीटर बढ़ सकते है। एक सरकारी उपक्रम के उच्च पदस्थ सूत्र ने बताया कि डालर के मुकाबले रुपये के 53.75 के स्तर पर पहुंचने के कारण तेल आयात महंगा हो गया है।
   
उन्होंने कहा कि पेट्रोल की बिक्री से कंपनियों को लागत से 0.55 से 0.56 रुपये प्रति लीटर की कम वसूली हो रही है। स्थानीय बिक्री कर जोड़ने के बाद दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 0.65 से 0.66 रुपये प्रति लीटर बढ़ाने की जरुरत है।
   
सरकारी तेल कंपनियों ने अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत कम होने के बाद पिछले एक महीने में पेट्रोल की कीमत दो बार घटाई है। कंपनी ने 16 नवंबर से पेट्रोल की कीमत में 2.22 रुपये प्रति लीटर यानी 3.2 फीसद की कटौती की और इसके बाद एक दिसंबर से 0.78 फीसदी प्रति लीटर की कटौती की। सूत्रों ने हालांकि, यह नहीं बताया कि तेल कंपनियां आम तौर पर पाक्षिक तौर पर दरों में बदलाव की प्रणाली के अनुरूप गुरुवार से से अपनी कीमत बढ़ाएंगी या नहीं। उन्होंने कहा हमें वास्तविक तौर पर सिर्फ 50-55 पैसे का नुकसान हो रहा है। जरूरत पड़ी तो अगले 15 दिन तक और झेल सकते हैं।
  
सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियां हर महीने पहली और 16 तारीख को पिछले पखवाड़े की अंतरराष्ट्रीय कीमत के आधार पर पेट्रोल की कीमत में बदलाव करती हैं। कंपनियां कीमत में किसी तरह के फेर-बदल से पहले अनौपचारिक तौर पर पेट्रोलियम मंत्रालय से परामर्श कर सकती हैं। संसद का शीतकालीन सत्र चल रहा है और पेट्रोल की कीमत में बढ़ोतरी के कारण विपक्षी दलों का विरोध हो सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फिर बढ़ सकते हैं पेट्रोल के दाम