अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ताज का गौरव तो लौटेगा, खर्च होंगे 5 अरब

आतंकवादियों के खूनी खेल में तबाह हुए ऐतिहासिक ‘ताजमहल पैलेस एवं टावर होटल’ को उसका गौरव लौटाने पर करीब पांच अरब रुपए खर्च करने पड़ सकते हैं। वास्तुकला के इस शानदार नमूने का मूल रूप लौटाने में 12 महीने लग सकते हैं। वास्तुकला के विशेषज्ञों और योजनाकारों के मुताबिक बारीक और अनूठी पच्चीकारी से लैस इस धरोहर के निर्माण में मूरीश, आेरिएंटल एवं फ्लोरेंटाइन शैलियों का इस्तेमाल किया गया है। वर्ष 103 में तामीर हुई इस इमारत की मरम्मत में बेहद अनुभवी विशेषज्ञों और दक्ष कारीगारों की जरूरत पड़ेगी। इसमें भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) की विशेषज्ञता की भी जरूरत पड़ेगी। इंडियन इंस्टीटय़ूट ऑफ आर्किटेक्चर के उप प्रमुख पांडुरंग पोटनिस कहते हैं, ‘‘मरम्मत के पारंपरिक तरीके से ही काम नहीं चलेगा। इसमें हर तरह की बारीकी पर ध्यान देना होगा। मेरा अनुमान यह है कि इस पर करीब 500 करोड़ रुपए खर्च होंगे।’’ उनके मुताबिक सबसे पहले इस होटल को हुई क्षति का ब्लूपिंट्र तैयार करना होगा। आईआईटी दिल्ली में सिविल इंजीनियरिंग विभाग के प्रमुख ए़ के. नागपाल का भी मानना है कि इस इमारत को उसका मूल रूप लौटाना असाधारण चुनौती है। वैसे, उन्होंने इसकी पुष्टि की कि वह ऐसी मरम्मत परियोजना के लिए परामर्श देते रहे हैं। आर्किटेक्चर डिजाइन कंपनी सेविंग केटेलिस्ट के प्रमुख राजेश थंबी कहते हैं कि इसकी मरम्मत पर प्रति वर्ग फुट 1500-2000 रुपए खर्च हो सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ताज का गौरव तो लौटेगा, खर्च होंगे 5 अरब