DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

5 लाख बीपीएल परिवारों को नहीं मिलेगा अनाज

राज्य के वंचित पांच लाख बारह हाार बीपीएल परिवारों को सस्ती दर पर चावल-गेहूं देने से केंद्र सरकार ने इंकार किया है। खाद्य मंत्रालय भारत सरकार के सचिव ने पिछले दिनों झारखंड सरकार के खाद्य सचिव से स्पष्ट शब्दों में कहा कि केंद्र सरकार की सब्सिडी लगातार घटती जा रही है। ऐसी स्थिति में अब झारखंड सहित किसी भी राज्य के शेष बीपीएल परिवारों को सस्ती दर पर अनाज उपलब्ध कराना संभव नहीं है। यह जानकारी खाद्य सचिव एनएन पांडेय ने दिल्ली से लौटने के बाद हिन्दुस्तान को दी है।ड्ढr उन्होंने बताया कि केंद्र ने सुझाव दिया है कि केंद्र से झारखंड के एपीएल परिवारों को दिये जा रहे अनाज के आवंटन को राज्य सरकार चाहे, तो बीपीएल परिवार को दे सकती है। अभी एपीएल कोटे के अनाज का मूल्य बाजार के मूल्य के बराबर है। इसलिए केंद्र के इस प्रस्ताव को राज्य सरकार के लिए मानना व्यावहारिक नहीं है। 2001 की जनगणना के अनुसार राज्य में बीपीएल परिवारों की संख्या 2लाख है। केंद्र ने अभी मात्र 23 लाख हाार बीपीएल परिवारों को ही लक्षित किया है। अंत्योदय अन्न योजना के अंतर्गत सम्मिलित 00 परिवारों को छोड़कर झारखंड के 1476100 बीपीएल परिवारों के लिए ही भारत सरकार अनाज दे रही है। वित्त विभाग ने खाद्य आपूर्ति विभाग को प्रथम फेा में गरीबों को तीन रुपये किलो चावल और दो रुपये गेहूं देने के लिए 30 करोड़ रुपये खाद्य एवं आपूर्ति विभाग को दे दिया है। विभाग सभी जिलों को राशि देने के लिए सूची बना रहा है। यह राशि सोमवार को सभी डीसी को भेजी जायेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 5 लाख बीपीएल परिवारों को नहीं मिलेगा अनाज