DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लेडीज़ वर्सेज रिकी बहल

लेडीज़ वर्सेज रिकी बहल

लगभग एक साल पहले रणबीर सिंह और अनुष्का शर्मा बैंड बाजा बारात लेकर आए थे। वे अब लेडीज वर्सेज रिकी बहल लेकर हाजिर हैं। बैंड बाजा बारात की तरह ही यह एक रोमांटिक कॉमेडी फिल्म है। इसकी खासियत यह है कि इसके चरित्रों का स्वरूप युवाओं के मानस को ध्यान में रखकर गढ़ा गया है। बॉलीवुड में ठगों और चोरों को ध्यान में रखकर ढेरों फिल्में बनी हैं। उनका अंत इस तरह से होता रहा है कि जालसाज अंत में पकड़े जाते रहे हैं और उन्हें सजा मिलती रही है। लेकिन इस फिल्म में रिकी बहल की परिणति कुछ अलग ही रहती है जो काफी दिलचस्प भी है।

रणबीर सिंह एक शातिर बदमाश है जो जालसाजी करके लड़कियों को ठगता रहता है। वह लड़कियों से दोस्ती प्यार के लिए नहीं करता। चूंकि वह उन्हें ठगना चाहता है और उनके पैसे ऐंठना चाहता है, इसलिए उनके करीब आता है। किसी लड़की के लिए वह फिटनेस ट्रेनर बनता है तो किसी के लिए आर्ट डीलर। वह लड़कियों से विभिन्न रूपों में मिलता है और उन्हें ठगकर चंपत हो जाता है। लेकिन अनुष्का शर्मा जब उससे टकराती हैं तो स्थितियां उलट जाती हैं। अनुष्का को रणबीर की सच्चाई का पता चल जाता है अंतत: वह उसी के हथकंडे अपनाकर उसे मात देती है। ये सब वह इतने रोचक ढंग से करती है कि फिल्म की रोचकता काफी बढ़ जाती है।

निर्देशक मनीष शर्मा ने जिस रोचकता से सारे चरित्रों को प्रस्तुत किया है ,उससे उनके अच्छे निर्देशक होने का पता चल जाता है। उन्होंने खुद को अपनी पहली फिल्म में ही साबित कर दिया था। इस बार भी उन्होंने अपने काम का लोहा मनवाया है। फिल्म की कहानी को गतिशीलता के साथ प्रस्तुत करने के लिए उन्होंने अनेक दृश्यात्मक प्रयोग किए हैं। वह निश्चय ही सिनेमा की भाषा को समृद्ध करते हैं।

बात करें फिल्म के कलाकारों की तो रणबीर सिंह ने बैंड बाजा बारात से ही अपने अभिनय की धाक जमा दी थी, अब रिकी के किरदार में वह खुद को और प्रभावी ढंग से प्रमाणित करते हैं। रणबीर बॉलीवुड के परंपरागत अभिनय में विश्वास नहीं रखते। जैसा उनका व्यक्तित्व है, उसी के आधार पर वह अपने चरित्र को प्रस्तुत करते हैं। इसी वजह से वह खुद को यर्थाथवादी अभिनेता साबित करने में सफल हो पाते हैं। अनुष्का शर्मा ने सहज अभिनय किया है। उनकी संवाद अदायगी और बॉडी लैंग्वेज उन्हें एक अच्छी अदाकारा के रूप में सामने लाती है। एकदम नई आई अभिनेत्रियों में वह सबसे आगे दिखाई दे रही हैं। परिणिति चोपड़ा और दीपानिता शर्मा का काम सामान्य है। अदिती शर्मा भी सामान्य काम ही कर पाई हैं।

यशराज की फिल्में संगीत की रोचकता के लिए जानी जाती हैं लेकिन संगीतकार सलीम-सुलेमान इस परंपरा का निर्वाह नहीं कर पाए हैं। फिल्म के कुछ गाने लोकप्रिय जरूर हुए हैं मगर वह लंबे समय तक दर्शकों को बांध नहीं पाएंगे।
उदय चोपड़ा की कहानी कमजोर थी, लेकिन जुगल हंसराज की अच्छी पटकथा के कारण फिल्म दिलचस्प बन गयी है। कुल मिलाकर फिल्म एक बार देखने के लिहाज से अच्छी बन गयी है।

सितारे: रणबीर सिंह, अनुष्का शर्मा, परिणीति चोपड़ा, अदिती शर्मा।
निर्देशक: मनीष शर्मा
कहानी: उदय चोपड़ा
निर्माता: यशराज फिल्म्स
पटकथा: जुगल हंसराज
संगीत: सलीम सुलेमान

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लेडीज़ वर्सेज रिकी बहल