DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

व्रत और त्योहार/पंचांग (शनिवार, 10 दिसंबर 2011)

व्रत और त्योहार: स्नान-दान-व्रतादि की मृगशिश नक्षत्रयुता आग्रहायणी (मार्गी) पूर्णिमा। श्री विद्या जयंती। दत्तात्रेय जयंती। श्री दत्त जयंती। बत्तीसी पूर्णिमा। खगास चन्द्रहण। भारत में दृश्य। सूर्य दक्षिणायन। सूर्य दक्षिण गोल। हेमन्त ऋतु। प्रात: 9 बजे से प्रात: 10 बजकर 30 मिनट तक राहुकालम्।


10 दिसम्बर शनिवार, 19 अग्रहायण (सौर) शक 1933, अग्रहायण मास 26 प्रविष्टे 2068, 14 मुहर्रम सन् हिजरी 1432, मार्गशीर्ष शुक्ल पूर्णिमा रात्रि 8 बजकर 6 मिनट तक तदनन्तर प्रतिपदा, रोहिणी नक्षत्र सायं 6 बजकर 31 मिनट तक पश्चात् मृगशीर्ष नक्षत्र, साध्य योग रात्रि 5 बजकर 8 मिनट तक पश्चात् शुभ योग, विष्टि (भद्रा) करण प्रात: 7 बजकर 20 मिनट तक, चन्द्रमा वृष राशि में (दिन-रात)
पं. वेणीमाधव गोस्वामी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:व्रत और त्योहार/पंचांग (शनिवार, 10 दिसंबर 2011)