DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुनील छेत्री के दो गोल से भारत सैफ चैम्पियनशिप के फाइनल में

सुनील छेत्री के दो गोल से भारत सैफ चैम्पियनशिप के फाइनल में

स्थानीय स्टार स्ट्राइकर सुनील छेत्री के दो गोल से गत चैम्पियन भारत ने शुक्रवार को यहां फुटबाल सैफ चैम्पियनशिप के सेमीफाइनल में मालदीव को 3-1 से शिकस्त देकर आठवीं बार टूर्नामेंट के फाइनल में प्रवेश किया। भारतीय टीम पिछली आठ सैफ चैम्पियनशिप में केवल 2003 में बांग्लादेश में ही खिताबी भिड़ंत में जगह नहीं बना सकी थी।

सईद रहीम नबी ने 24वें मिनट में गोल कर भारत को 1-0 से आगे कर दिया। क्लाइफोर्ड मिरांडा की फ्री किक पर जेजे लालपेखलुआ मौका चूक गये, लेकिन नबी ने इसे गोलमुख में पहुंचाकर जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में मौजूद दर्शकों को खुश कर दिया।

मालदीव ने 60वें मिनट में शामवील कासिम ने शानदार स्ट्रेट शाट पर गोल कर टीम को 1-1 से बराबर कर दिया। भारत की ओर से दूसरा गोल पेनल्टी के जरिये मैन आफ द मैच सुनील छेत्री ने 70वें मिनट में किया जिससे स्कोर 2-1 हो गया।

मालदीव के मोहम्मद उमेर ने सुनील छेत्री को अपने गोलमुख की ओर बढ़ने से रोकने के लिये खींचकर गिरा दिया था जिस पर उन्हें पीला कार्ड दिखाया गया और भारत को पेनल्टी गोल का मौका मिला। इस चैम्पियनशिप के प्रत्येक मैच में गोल करने वाले सुनील छेत्री ने इंजुरी टाइम में गोल कर भारत को 3-1 से शानदार जीत दिलायी।

दक्षिण एशिया के दबदबे वाले दो फुटबाल देशों के बीच यह मुकाबला काफी रोमांचक रहा जिसमें पांच बार की चैम्पियन भारतीय टीम ने तेज तर्रार खेल दिखाने वाली मालदीव टीम पर बाजी मारी। मौसम के कारण मैच फ्लडलाइट में खेला गया।

दूसरे हाफ में मालदीव की टीम काफी आक्रामक हो गयी थी और उसने कुछ शानदार मूव भी बनाये। एक मिनट बाद ही मालदीव के स्ट्राइकर अहमद तारीक का हेडर भारतीय गोलमुख के सामने ही चूक गया।

भारतीय टीम को दूसरे हाफ के दूसरे ही मिनट में फ्री किक मिली, लेकिन एंथोनी परेरा का फ्लैट शाट कार्नर किक के लिये चला गया जिसे मालदीव के गोलकीपर ने आसानी से रोक दिया।

भारतीय टीम भी इस बढ़त को दोगुना करने के लिये बेताब दिख रही थी, मिरांडा 52वें मिनट में अकेले फुटबाल लेकर विपक्षी खेमे में घुसे और स्ट्रेट शाट लगाया, लेकिन यह लक्ष्य के बाहर रह गया।

वहीं एक गोल खाकर दबाव में दिख रही मालदीव को अपनी आक्रामकता का फायदा 60वें मिनट में कासिम के गोल से मिला जिन्होंने अकरम अब्दुल गनी द्वारा बनाये गये मौके को गोल में बदला।

भारत ने 71वें मिनट में अनुभवी खिलाड़ी स्टीवन डायस को एंथोनी परेरा की जगह उतारा। इसके तुरंत बाद उन्हें फ्री किक मिली, लेकिन मालदीव के गोलकीपर ने इस डिफ्लेक्शन को नाकाम कर दिया। इसके बाद जेजे को पीला कार्ड दिखाया गया।

मालदीव के स्टार फारवर्ड और कप्तान अली अशफाक को पहले हाफ में काफी परेशानी हो रही थी जिन्हें उपचार के लिये कुछ देर के लिये मैदान से बाहर भी जाना पड़ा। उन्होंने विपक्षी टीम के गोलमुख पर काफी हमले किये जिसमें पहले हाफ से दो मिनट पहले का प्रयास काफी करीब से चूक और वह साइड नेट छूकर बाहर चला गया।

भारत ने तीसरे ही मिनट में गोल करने का शानदार मौका गंवा दिया था जिसमें कप्तान क्लाइमेक्स लारेंस ने फुटबाल सीधे लक्ष्य की ओर बढ़ायी, लेकिन मालदीव के गोलकीपर इमरान मोहम्मद ने डाइव कर इसे बचा लिया जिससे जेजे के सामने गोलमुख खाली पड़ा था और वह इससे चूक गये।

पहला गोल करने से दो मिनट पहले जेजे ने स्टार स्ट्राइकर सुनील छेत्री के लिये बेहतरीन मूव बनाया था, लेकिन दिल्ली के इस फुटबालर ने प्रयास किये बिना इसे ऐसे ही जाने दिया।

दोनों टीमों के बीच हुए 15 मैच में नौ मैच भारत के नाम रहे थे जिससे इस मैच में भी भारतीय टीम का पलड़ा भारी था और उन्होंने आज जीत दर्ज कर इस रिकार्ड में सुधार किया। मालदीव पिछली चार भिड़ंत में चार बार जीता है जबकि दो मैच ड्रा रहे थे।

मालदीव ने 2009 सैफ चैम्पियनशिप के ग्रुप मैच में भारत को 2-0 से हराया था, लेकिन भारतीय टीम ने फाइनल में पेनल्टी शूटआउट में उन्हें पछाड़कर खिताब हासिल किया था।

मालदीव की टीम फीफा रैंकिंग में 166 और भारतीय टीम 162 नंबर पर काबिज है, दोनों टीमों के बीच पिछला अंतरराष्ट्रीय मैच इसी साल जुलाई में हुआ था जिसमें परिणाम 1-1 रहा था। भारत की ओर से गोल स्टार स्ट्राइकर सुनील छेत्री ने किया था। मालदीव के इब्राहिम फजील को भी निर्मल छेत्री को गिराने के कारण पीला कार्ड मिला।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारत सैफ चैम्पियनशिप के फाइनल में