DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कैंपस के यादगार लम्हे बांटो, इनाम पाओ

दिल्ली विश्वविद्यालय ने डीयू ने पढ़ रहे और पास हो चुके छात्रों को प्रोत्साहन देने की शुरू की तैयारी

दिल्ली विश्वविद्यालय ने अपने पुराने और पढ़ रहे छात्रों को प्रोत्साहन देने के लिए एक योजना तैयार की है। योजना के तहत छात्रों के यादगार अनुभव साझा किए जाएंगे।

इस अनुभव को एक कहानी के तौर पर लिखना होगा। इसके अलावा डीयू में बदलाव और किसी अच्छे विचार के बारे में भी जानकारी दी जा सकती है। इनमें से कुछ श्रेष्ठ अनुभव भेजने वालों को डीयू पुरस्कार देगा। जानकारी के अनुसार डीयू ने छात्रों से कॉलेज में बिताए गए यादगार पलों को साझा करने को कहा है। डीयू ने अपील की है कि वे कॉलेज में बिताए गए अपने दिनों के अनुभव के बारे में बताएं। यह अपील डीयू में मौजूदा समय में पढ़ रहे और उत्तीर्ण हो चुके छात्रों से की गई है। दिल्ली विश्वविद्यालय ने छात्रों से कहा है कि कॉलेज में पढ़ाई के दौरान कोई ऐसी घटना घटी हो जो उन्हें आज तक याद हो, उसे वे कहानी के तौर डीयू को लिखकर भेज सकते हैं। यही नहीं छात्र अगर डीयू में किसी तरह का बदलाव चाहते हैं तो वह भी डीयू को लिखकर भेज सकते हैं। अगर उनके मन में कोई नया विचार हो या डीयू की शैक्षिक योग्यता को बेहतर करने का कोई प्रस्ताव हो तो उसे भी वह लिख कर भेज सकते हैं। डीयू कुछ चुनिंदा श्रेष्ठ सामग्रियों को पुरस्कार भी देगा। पुरस्कार के तौर पर उन प्रविष्टियों को एक माह तक डीयू के फेसबुक पेज पर प्रकाशित किया जाएगा या जब तक ऐसी दूसरी कवायद शुरू नहीं हो जाती तब तक डीयू के फेसबुक पेज पर ये प्रविष्टियां रहेंगी। इससे अन्य छात्रों को भी प्रोत्साहन और अनुभव जानने का मौका मिलेगा।

पहले हुई पहल

दिल्ली विश्वविद्यालय के इनोवेशन क्लस्टर के तहत कुछ नया और रचनात्मक करने वाले छात्रों को प्रोजेक्ट करने के लिए प्रतिवर्ष दस लाख रुपये दिए जाएंगे।
इनोवेशन को बढ़ावा देने के लिहाज से डीयू ने बीटेक शुरू किया है
डीयू  का पीएचडी और एफफिल स्तर पर स्कॉलरशिप बढ़ाने का प्रस्ताव
डीयू ने एसओएल और नॉल कॉलिजिएट के लिए भी खोली प्लेसमेंट सेल

साझा संवाद

डीयू प्रशासन का कहना है कि इस कवायद का मकसद विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले या पास हो चुके छात्रों को एक प्लेटफॉर्म प्रदान करना है। इससे आगे आने वाले समय में सभी छात्र अपने अनुभवों को अन्य छात्रों से बांट सकेंगे। छात्र अपने अनुभव को हिंदी या अंग्रेजी किसी भी भाषा में साझा कर सकते हैं। डीयू ने इस वर्ष से ही छात्रों के लिए फेसबुक पेज बनाया है। साथ ही वाइस चांसलर से सीधा संवाद करने के लिए ई-मेल सुविधा शुरू की है।

यहां पर करें मेल अनुभव, विचार या सुझाव: memories@du.ac.in,  भेजने की अंतिम तारीख: 31 दिसंबर, 2011
मेल में ये जरूर लिखें: नाम, पता, संपर्क के लिए नंबर, किस वर्ष में आपने पढ़ाई की, किस कोर्स में पढ़ाई कर रहे हैं या पढ़ाई कर चुके हैं, कॉलेज या विभाग का नाम, इनरॉलमेंट नंबर या रोल न. (यदि है तो)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कैंपस के यादगार लम्हे बांटो, इनाम पाओ