DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

व्रत और त्योहार (शुक्रवार, 09 दिसंबर 2011)

व्रत और त्योहार : व्रतादि की पूर्णिमा। पिशाच मोचन चतुर्दशी। कपर्दीश्वर दर्शन पूजन। काशी में पिशाच मोचन पार्वण श्रद्ध करने से पिशाच योनि से मुक्ति मिलती है।  सूर्य दक्षिणायन। सूर्य दक्षिण गोल। हेमंत ऋतु। प्रात: 10:30 मिनट से मध्याह्न् 12 बजे तक राहुकालम्।
9 दिसंबर, शुक्रवार, 18 अग्रहायण (सौर) शक 1933, अग्रहायण मास 25  प्रविष्टे 2068,  13 मुहर्रम हिजरी सन 1433, मार्गशीर्ष शुक्ल चतुर्दशी  सांय 6: 27 मिनट तक उपरांत पूर्णिमा, कृतिका नक्षत्र सांय 4: 21 मिनट तक तदनंतर रोहिणी नक्षत्र, सिद्ध योग, रात्रि 5:08 मिनट तक पश्चात साध्य योग, वणिज, चंद्रमा वृष राशि में (दिन-रात।)
पं. वेणीमाधव गोस्वामी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:व्रत और त्योहार (शुक्रवार, 09 दिसंबर 2011)