DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एक फिल्म से नहीं बनता कोई सेक्स सिंबल: विद्या बालन

एक फिल्म से नहीं बनता कोई सेक्स सिंबल: विद्या बालन

अदाकारा विद्या बालन अपनी नई फिल्म द डर्टी पिक्चर में सेक्स सिंबल की अपनी छवि को जमकर भुना रही हैं और उनका कहना है कि अब उन्होंने किसी खास तरह की छवि में कैद होने के डर को बाहर निकाल दिया है।
   
बालन का कहना है कि कुछ साल पहले फिल्मों के चुनाव के कारण काफी आलोचनाएं झेलने के बाद उन्होंने निर्णय लिया था कि वह अपनी सहज बुद्धि के आधार पर फिल्मों का चुनाव करेंगी। उन्होंने कहा कि मैं जिस तरह की व्यक्ति हूं यह बिल्कुल वैसा ही विविधतापूर्ण है। जब मुझे इस तरह के किरदार को निभाने का प्रस्ताव दिया जाता है तो मुझे लगता है कि यह मूर्खतापूर्ण होगा अगर मैं उसे अपने हाथ से जाने दूं। करीब तीन साल पहले मैंने अपनी इस आदत को बदला।
   
एचटी लीडरशिप सम्मेलन के दौरान फरहान अख्तर के साथ हिंदी सिनेमा के एक सत्र में बालन ने कहा कि मैं जिस तरह का किरदार निभाना चाहती थी उनको लेकर मैं काफी पशोपेश में थी। मैं जिस तरह की फिल्में कर रही थी, उनसे मुझे फायदा नहीं हो रहा था।

विद्या बालन ने कहा कि इसके बाद मैंने खुद से पूछा कि आखिर मैं किस चीज के लिए यहां हूं। अगर यह अदाकारी के लिए है तो मुझे उस पर अपना ध्यान केंद्रित करना चाहिए और इसी चीज ने मेरे निर्णय को सही दिशा में बढ़ाने में मदद किया।
   
द डर्टी पिक्चर में सिल्क स्मिता के किरदार से बहुतों को प्रभावित करने वाली बालन का कहना है कि दिल से वह भावुक किस्म की व्यक्ति हैं और वह हर किरदार को ईमानदारीपूर्वक निभाना चाहती हैं। बालन ने कहा कि चाहे यह जितना भी कठिन क्यों न हो मैंने फिल्मों में अभिनय का निर्णय लिया और मैं इसमें विश्वास करती हूं। मैं चीजों पर ज्यादा चिंतित नहीं होती क्योंकि किसी अदाकार के लिए छवि प्रतिरोध की तरह होती है। हर फिल्म के साथ मेरा प्रयास होता है कि खुद को सीमा में नहीं बांधा जाए और यह प्रभाव दिखा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एक फिल्म से नहीं बनता कोई सेक्स सिंबल: विद्या बालन