DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऑस्ट्रेलिया के लिए मुश्किल होगा भारत को हराना : गांगुली

ऑस्ट्रेलिया के लिए मुश्किल होगा भारत को हराना : गांगुली

भारत के सबसे सफल कप्तान सौरभ गांगुली ने ऑस्ट्रेलिया के सफलतम कप्तान स्टीव वॉ की भविष्यवाणी को सिरे से खारिज करते हुए कहा है कि कंगारू टीम के लिए घरेलू सीरीज में टीम इंडिया को हराना बहुत मुश्किल काम होगा।
 
गांगुली ने शुक्रवार रात यहां विज्डन इंडिया के लांच से इतर संवाददाताओं से कहा कि स्टीव बेशक ऑस्ट्रेलिया के 2-1 से जीतने की भविष्यवाणी करें लेकिन ऑस्ट्रेलियाई टीम की मौजूदा स्थिति को देखते हुए उसके लिए भारत से जीतना बहुत मुश्किल होगा।
 
विज्डन इंडिया के संपादकीय बोर्ड के अध्यक्ष बनाए गए गांगुली ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया के पास इस समय न तो पहले जैसे तेज गेंदबाज हैं और जो भी हैं, वे चोटों से जूझ रहे हैं। इसलिए ऑस्ट्रेलिया के लिए भारत की मजबूत बल्लेबाजी को दो बार आउट करना काफी कठिन होगा।
 
उल्लेखनीय है कि ऑस्ट्रेलिया के मुख्य तेज गेंदबाज मिशेल जॉनसन एडी की चोट के कारण भारत के खिलाफ 26 दिसंबर से शुरु हो रही चार मैचों की टेस्ट से बाहर हो चुके हैं जबकि एक अन्य तेज गेंदबाज रेयान हैरिस का भी कूल्हे की चोट के कारण इस सीरीज में खेलना संदिग्ध है।
 
गांगुली ने इस दौरे के लिए टीम इंडिया के बाएं हाथ के तेज गेंदबाज जहीर खान की संभावनाओं के बारे में पूछे जाने पर कहा कि इस बात में कोई दो राय नहीं कि जहीर इस समय देश के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज हैं लेकिन मैं चाहूंगा कि जहीर को आधी अधूरी फिटनेस के साथ नहीं बल्कि शत प्रतिशत फिट होने पर ही ऑस्ट्रेलिया भेजा जाना चाहिए।

गांगुली ने कहा कि इस बात का कोई फायदा नहीं होगा कि किसी भी ऐसे खिलाड़ी को ऐसे महत्वपूर्ण दौरे पर भेज दिया जाए जो पूरी तरह फिट न हो और उसे बीच में ही कहीं दौरा न छोड़ना पड़ जाए।

बाएं हाथ के दो अन्य तेज गेंदबाजों आशीष नेहरा और इरफान पठान के लिए पूर्व कप्तान ने कहा कि नेहरा को वापसी करते देख अच्छा लगता है। वह अभी 32-33 साल के ही हैं और चारदिवसीय मैच में पूरा खेलकर उन्होंने खुद को साबित किया है लेकिन पठान को हाल फिलहाल मैंने ज्यादा खेलते नहीं देखा है इसलिए मैं उनके बारे में अधिक कुछ नहीं कह सकता हूं।

एक अन्य तेज गेंदबाज प्रवीण कुमार की चोट के लिए पूर्व कप्तान ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि उन्हें अपनी चोट की वजह से न केवल भारत और वेस्टइंडीज सीरीज बल्कि ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज से भी हटना पड़ा।
 
बंगाल टाइगर के नाम से मशहूर गांगुली ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) की सराहना करते हुए कहा कि उसने अपने तेज गेंदबाजों को चोटों से उबरने के लिए पर्याप्त समय देकर अच्छा काम किया है।

उन्होंने कहा कि जहीर के पास अभी ऑस्ट्रेलिया दौरे से पहले पूरे 24 दिन हैं और तब तक वह अपनी पूरी फिटनेस हासिल कर सकते हैं लेकिन मैं साथ ही फिर कहूंगा कि जब तक वह पूरी तरह फिट न हों ऑस्ट्रेलिया दौरे पर नहीं जाएं।

ऑस्ट्रेलिया दौरे में ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन की संभावनाओं के लिए गांगुली ने कहा कि वह एक प्रतिभासंपन्न खिलाड़ी हैं। भारत की पिचों पर उनको अच्छी कामयाबी मिली है लेकिन ऑस्ट्रेलिया दौरा बिल्कुल और उन्हें विकेट हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत करनी होगी।

यह पूछने पर कि वह खिलाड़ी एक कमेंटेटर और विज्डन इंडिया के संपादकीय बोर्ड के अध्यक्ष के रूप में इतनी जिम्मेदारियों को कितना चुनौतीपूर्ण मानते हैं, गांगुली ने मुस्कुराते हुए कहा कि यह तो कोई चैलेंज नहीं है। असली चैलेंज तो भारत के लिए खेलना था। कमेंट्री तो मैं कभी कभी ही करता हूं।

बीसीसीआई की तकनीकी समिति के अध्यक्ष गांगुली ने रणजी ट्रॉफी के फॉर्मेट में बदलाव की वकालत करते हुए कहा कि इस टूर्नामेंट के मौजूदा फॉर्मेट के बदलाव की जरूरत है। अधिकांश मैच नीरस ड्रॉ पर ही समाप्त हो जाते हैं और पहली पारी में बढ़त पाने वाली टीम को फायदा मिलता है। इस फॉर्मेट को बदला जाना चाहिए।
 
गांगुली को विज्डन इंडिया के संपादकीय मंडल का अध्यक्ष बनाया गया है जबकि दिलीप प्रेमचंद्रन इसके एडीटर इन चीफ होंगे। सुरेश मेनन को विजडन अलमेनेक का संपादक बनाया गया है। विशेष तौर पर भारत के लिए बनाई गई विजडन अलमेनेक टीम इंडिया के ब्लू रंग में रंगी होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ऑस्ट्रेलिया के लिए मुश्किल होगा भारत को हराना : गांगुली