DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ममता बनर्जी ने नहीं मानी प्रधानमंत्री की बात

ममता बनर्जी ने नहीं मानी प्रधानमंत्री की बात

खुदरा क्षेत्र में एफडीआई को मंजूरी देने के फैसले पर सरकार की सहयोगी तृणमूल कांग्रेस को मनाने का प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का प्रयास विफल रहा और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री से साफ कह दिया कि उनकी पार्टी इस फैसले का समर्थन नहीं कर सकती।

हालांकि ममता ने यह भी स्पष्ट किया कि उनकी पार्टी संप्रग सरकार को गिराने के पक्ष में नहीं है। उधर वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी ने सहयोगी दलों और विपक्ष से कहा है कि अन्य राज्यों द्वारा इस नीति को लागू करने के रास्ते में बाधा नहीं बनें।

खुदरा क्षेत्र में विदेशी प्रत्यक्ष निवेश के मुद्दे पर आज लगातार नौवें दिन भी संसद में कामकाज ठप रहा। दोनों सदनों की कार्यवाही बुधवार तक के लिए स्थगित कर दी गयी। संप्रग सरकार में दूसरे सबसे बड़े घटक दल तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी ने सिंह से फोन पर बातचीत में अपना रुख स्पष्ट किया।

ममता ने हुगली जिले के डानकुनी में संवाददाताओं से कहा कि प्रधानमंत्री ने उनसे फोन पर बातचीत की थी और उनकी पार्टी का समर्थन मांगा है। उन्होंने कहा कि मैंने उन्हें सम्मानपूर्वक बता दिया कि हम इस मुद्दे पर सरकार को गिरने नहीं देना चाहते। यह बहुत संवेदनशील मुद्दा है। लेकिन हमारे लिए खुदरा क्षेत्र में एफडीआई के फैसले को मंजूरी दे पाना संभव नहीं है।

उन्होंने कहा कि चूंकि आप मुझसे अनुरोध कर रहे हैं, इसलिए हम पार्टी में इस बाबत विचार विमर्श कर सकते हैं। लेकिन हमारी पार्टी का रुख स्पष्ट है। ममता ने प्रधानमंत्री से इस फैसले पर पुनर्विचार करने का आग्रह भी किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ममता बनर्जी ने नहीं मानी प्रधानमंत्री की बात