DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आर्थिक वृद्धि के लिये प्रोत्साहन पैकेज की जरुरत नहीं: मोंटेक

आर्थिक वृद्धि के लिये प्रोत्साहन पैकेज की जरुरत नहीं: मोंटेक

योजना आयोग ने शुक्रवार को कहा कि वृद्धि में नरमी को दूर करने के लिये उद्योगों को प्रोत्साहन पैकेज देने का कोई मामला नहीं बनता क्योंकि राजकोषीय घाटा उंचा है और यह चालू वित्त वर्ष के बजटीय अनुमान 4.6 प्रतिशत से करीब एक फीसदी अधिक रह सकता है।
  
हिंदुस्तान टाइम्स लीडरशिप समिट में आहलूवालिया ने कहा कि मुझे नहीं लगता कि प्रोत्साहन के अभाव के कारण नरमी आयी है़, राजकोषीय घाटा अनुमान से अधिक रहने की आशंका है, ऐसे में प्रोत्साहन पैकेज का मामला कहां बनता है। आहलूवालिया ने कहा कि राजकोषीय घाटा बजटीय अनुमान से एक प्रतिशत अधिक रह सकता है लेकिन कारकों का वास्तविक प्रभाव कितना होगा, इस बारे में अभी कुछ नहीं कहा जा सकता लेकिन यह 4.6 प्रतिशत से अधिक रहेगा।
 
सरकार का राजकोषीय घाटा चालू वित्त वर्ष के पहले सात महीने (अप्रैल-अक्टूबर) में 3.07 लाख करोड़ रुपये हो गया है जो बजटीय अनुमान का 74.4 प्रतिशत है। गैर-कर राजस्व में कमी के कारण राजकोषीय घाटा बढ़ा है। उल्लेखनीय है कि आर्थिक वृद्धि दर 2011-12 की जुलाई-सितंबर अवधि में 6.9 प्रतिशत रही जो दो साल का निम्न स्तर है। इससे पूर्व वित्त वर्ष की इसी तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर 8.4 प्रतिशत थी। पहले छह महीने में आर्थिक वृद्धि दर 7.3 प्रतिशत रही।
  
आहलूवालिया ने कहा कि निवेश कम रहने, राजनीतिक अनिश्चितता तथा बुनियादी ढांचा परियोजनाओं के क्रियान्वयन में देरी के कारण नरमी आयी है़।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आर्थिक वृद्धि के लिये प्रोत्साहन पैकेज नहीं: मोंटेक