DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सोनिया-मनमोहन के कहने पर बना गृहमंत्री : चिदंबरम

वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने सोमवाार को कहा कि वह गृहमंत्रालय में जाने के इच्छुक नहीं थे, लेकिन प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिहं और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के कहने पर वह इसके लिए तैयार हो गए। वित्त मंत्रालय में संवाददाताआें के साथ बातचीत करते हुए चिदंबरम ने कहा कि मैं आज गृह मंत्रालय जा रहा हूं, लेकिन ईमानदारी से मैं आपको यह बताना चाहूंगा कि मैं गृह मंत्रालय जाने का इच्छुक नहीं था, लेकिन मेरे मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने विशेष तौर पर यह निर्णय लिया। वित्त मंत्रालय में अधूरे कार्यो का जिक्र करते हुए चिदंबरम ने कहा कि प्रधानमंत्री स्वंय अब वित्त मंत्रालय का कामकाज देखेंगे। उन्हें पूरी उम्मीद है कि मुद्रास्फीति कम होगी और आर्थिक विकास की रफ्तार संतोषजनक रहेगी। चिदंबरम ने कहा कि डॉ. सिहं के रिजर्व बैंक गवर्नर और वित्त मंत्री के रूप में लंबे अनुभवों को देखते हुए वह वित्त मंत्रालय का कामकाज देखने के लिए सबसे उपयुक्त व्यक्ित हैं। वह योजना आयोग के उपाध्यक्ष भी रह चुके हैं। वित्त मंत्रालय के लिए इन तीनों संस्थानों के बीच अच्छा तालमेल बहुत जरूरी है। चिदंबरम ने विश्वास व्यक्त किया कि प्रधानमंत्री के सक्षम नेतृत्व में आर्थिक विकास की रफ्तार उच्चस्तर पर बनी रहेगी और मुद्रास्फीति में नरमी का रुख भी बरकरार रहेगा। वित्त मंत्री के रूप में चिदंबरम ने महंगाई से निपटने और आर्थिक मंदी से मोचर्ो लेने की चुनौतियों का मुकाबला किया। गृह मंत्रालय में जाने से पहले चिदंबरम ने सोमवार सुबह वित्त मंत्रालय में संवाददाताआें को बुलाकर उनसे बातचीत की। चिदंबरम ने कहा कि चार साल तक संतोषजनक आर्थिक वृद्धि हासिल करने के बाद वह इस साल को उठापटक से दूर सामान्य मान रहे थे। लेकिन पांचवा साल सबसे यादा उठापटक वाला साबित हुआ। उन्होंने कहा कि मेरे मंत्री रहते हुए यह सबसे यादा घटनाप्रधान वर्ष रहा। वर्ष की शुरुआत चार महीनों में महंगाई का जोर रहा, जबकि उसके बाद के चार महीने वैश्विक मंदी के बढ़ते प्रभाव वाले रहे। मुंबई पर हुए अब तक के सबसे बड़े आतंकवादी हमले की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए गृहमंत्री शिवराज पाटिल ने रविवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। उनके स्थान पर चिदंबरम को गृह मंत्री बनाया गया है। देश के उद्योग जगत ने चिदंबरम को गृहमंत्रालय का कार्यभार सौंपे जाने को देश और उद्योग जगत के हित में बताया है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ‘सोनिया-मनमोहन के कहने पर बना गृहमंत्री’