DA Image
3 जुलाई, 2020|1:22|IST

अगली स्टोरी

दो टूक

झारखंड के सत्ताधीशो, होशियार! जनता जागने लगी है! देखा नहीं, मुंबई हादसे पर उसकी प्रतिक्रिया!. सबक लो। सड़कों पर गोलगप्पे खाना महंगा पड़ सकता है। सरकारी संगीनों के घर में मत इतराओ! आम-ाानों की कीमत पर तुम्हारी लाल-पीली चौंधियाती बत्तियां, कानफाड़ू गैरकानूनी सायरन के ठस्से, अब बस! .हालात बेकाबू हों, इससे पहले विवेक जागृत करो। एक बार देख आओ, फूटते क्षोभ के खूनी फव्वार, दूर-देहातों में! महामहिम, आप तो तोड़िये चुप्पी। आखिर, मुखिया हैं सूबे के! अब तो कसिये जनभावना की कसौटी पर इन मदमस्त महाप्रभुओं को। देखा नहीं, जनता के तेवर भांप खब्ती ‘सूट’-बदलू दफा कर दिये गये सेंटर से. संभालते रहें अपना ‘वार्डरॉब’! लोग सत्ता के इन लोगों की चर्चा तक से चिढ़ते हैं। खुदा न कर. कहीं मौका हाथ लगा तो.