DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कांग्रेस नेताओं को सपने में खदेड़ता है हाथी: मायावती

कांग्रेस नेताओं को सपने में खदेड़ता है हाथी: मायावती

उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए रविवार को कहा कि सूबे को 10 साल में नंबर एक राज्य बनाने का कांग्रेस के युवराज का बयान एक चुनावी हथकंडा है। मायावती ने कहा कि कांग्रेस पार्टी बसपा से डरी हुई है, तभी उसके नेताओं को यहां आकर नाटकबाजी करनी पड़ रही है।

रमाबाई अम्बेडकर मैदान में आयोजित दलित एवं पिछड़ा भाईचारा सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए मायावती ने कहा, ''बसपा से कांग्रेस इस कदर डरी हुई है कि उसके युवराज को दिल्ली में चल रही संसद को छोड़कर यहां किस्म-किस्म की नाटकबाजी करनी पड़ रही है। देश भर में बसपा के बढ़ते जनाधार ने कांग्रेस पार्टी की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। आज की स्थिति में कांग्रेस पार्टी और उसके नेताओं के बारे में हमें ऐसा लगता है कि मानो बसपा का चुनाव चिह्नें हाथी रोजाना इनके सपनों में आकर खदेड़ता और दौड़ाता है।''

मायावती ने कहा, ''कांग्रेस पार्टी के लोग बसपा के चुनाव चिह्न् हाथी के बारे में आए दिन तरह-तरह की बेहूदी, तथ्यहीन और अनाप-शनाप बातें करते रहते हैं, जिनको लेकर किसी को भले ही गुस्सा न आए लेकिन प्रदेश अध्यक्ष स्वामी प्रसाद मौर्या को गुस्सा जरूर आता है जो आपको समाचार पत्रों में देखने को मिलता है, लेकिन फिर भी हमारी पार्टी कांग्रेस की ज्यादातर बातों का संज्ञान नहीं लेती है।''

उन्होंने कहा कि सत्ता में आने पर प्रदेश को 10 साल में बदल देने का राहुल का बयान पूरी तरह हवा-हवाई है। इस पर रत्ती भर भरोसा नहीं किया जा सकता। यह एक चुनावी हथकंडा है।

मायावती ने कहा, ''हमारी पार्टी का मानना है कि जो कांग्रेस पार्टी देश के साथ प्रदेश में लगभग 40 साल तक सत्ता में रही लेकिन उस समय वह उत्तर प्रेदश को नंबर एक राज्य नहीं बना पाई तो आज प्रदेश और देश में बदली राजनीतिक परिस्थितियों में वह कैसे नंबर एक राज्य बना देगी अर्थात नहीं बना सकती।''

राहुल गांधी को आड़े हाथों लेते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, ''किसी तरह छल-कपट करके कांग्रेस पार्टी यदि सत्ता में आ भी जाती है तो वह पांच साल के भीतर उत्तर प्रदेश को कंगाल बना देगी।''

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को बेहतर स्वास्थ्य लाभ की शुभकामनाएं देते हुए मायावती ने कहा, ''हमें पता चला है कि सोनिया की बीमारी को देखते हुए राहुल गांधी को जब से पार्टी का कार्यकारी अध्यक्ष और भावी प्रधानमंत्री बनाने का अंदरूनी फैसला हुआ है तब से संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार उसे खुश करने में लगी है। इसी के मद्देनजर केंद्र सरकार ने उसके (राहुल) विदेशी दोस्तों की कम्पनियों को लाभ पहुंचाने के लिए खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) लाने का निर्णय लिया।''

मायावती ने अपनी पार्टी के लोगों से आह्वान किया कि वे विदेशी कम्पनियों को देश में लाने वाली कांग्रेस को सत्ता में न आने दें और कहा, ''आपको अपने हित में बसपा सरकार को ही बहुमत में दोबारा चुनकर सत्ता में लाना है।''

कांग्रेस नीत संप्रग सरकार पर उत्तर प्रदेश के साथ भेदभाव का आरोप लगाते हुए मायावती ने कहा, ''केंद्र सरकार उत्तर प्रदेश के हिस्से के कई हजार करोड़ रुपये नहीं जारी कर रही है, इसकी वजह से जनहित के काम रुके पड़े हैं। केंद्र सरकार के भेदभावपूर्ण रवैये के बावजूद हमारी सरकार अपने संसाधनों से विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाएं चलाकर सभी वर्गो का विकास कर रही है।''

मायावती ने कहा कि महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी कानून (मनरेगा) के बारे में कांग्रेस पार्टी ऐसे प्रचारित कर रही जैसे यह योजना खुद उसकी पार्टी की हो। उन्होंने कहा कि सभी दलों ने संसद में सहयोग करके इस योजना को बनाने में मदद की। 

मुख्यमंत्री ने कहा, ''केंद्र में यदि बसपा की सरकार बनती है तो मनरेगा को संशोधित कर मौजूदा प्रावधान 100 दिन के रोजगार के बजाय लोगों को पूरे साल 365 दिन का रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा। मनरेगा के साथ दूसरी जनकल्याणकारीयोजनाओं में व्याप्त खामियों को दूर किया जाएगा ताकि इन योजनाओं का पूरा लाभ गरीबों को मिल सके।''

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कांग्रेस नेताओं को सपने में खदेड़ता है हाथी: मायावती