अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिवंगत नेताओं को दी गई श्रद्धांजलि

बिहार विधान मंडल में शीतकालीन सत्र के पहले दिन मंगलवार को सदन में दिवंगत नेताओं के प्रति संवेदना प्रकट की गयी। उधर विधान परिषद में कोसी की बाढ़ में मार गए लोगों और मुंबई में आतंकी हमले के दौरान शहीद हुए जवानों और मार गए लोगों के प्रति भी शोक व्यक्त किया गया।ड्ढr ड्ढr इस दौरान सदस्यों ने एक मिनट का मौन रखकर दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह, विधान परिषद के सदस्य डॉ.शारदा प्रसाद सिंह, बिहार विधान सभा के पूर्व अध्यक्ष शिवचंद्र झा, पूर्व मंत्री राम अवतार चौधरी, बिहारी लकड़ा, तारिणी प्रसाद सिंह, गिरिवर पाण्डेय, बुद्धदेव सिंह, लोक सभा की पूर्व सदस्य चंद्रभानु देवी, लोक सभा के पूर्व सदस्य कमला मिश्र मधुकर, बिहार विधान परिषद के पूर्व सदस्य हरदेव नारायण सिंह, हरिश्चंद्र झा, बिहार विधान सभा के पूर्व सदस्य सुरश कुमार सिंह, रामजतन पासवान, महताब लाल सिंह, विनोद नारायण दीक्षित, विवेकानंद गिरि, पटना हाईकोर्ट के पूर्व कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश जस्टिस सैयद सरवर अली, कोसी की बाढ़ में मार गए लोगों तथा मुम्बई में आतंकी हमले के दौरान शहीद जवानों और मार गए लोगों की आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की। विधान परिषद के सभापति प्रो. अरुण कुमार ने शोक प्रकाश पढ़ा और ईश्वर से कामना की कि वह दिवंगत आत्माओं को शांति प्रदान करं तथा शोक संतप्त परिवारों को धैर्य एवं शक्ित दें। विधान सभाध्यक्ष उदय नारायण चौधरी ने भी इनकी आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की। विधानसभा के लिए काला दिन : राबड़ीड्ढr पटना (हि.ब्यू.)। राजद ने मुम्बई के आतंकी हमले में शहीद हुए लोगों के प्रति विधानसभा में शोक व्यक्त नहीं करने पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए इसे बिहार विधानसभा के लिए काला दिन बताया है। प्रतिपक्ष की नेता राबड़ी देवी ने कहा कि विधायक श्याम रजक के आग्रह के बावजूद विधानसभा अध्यक्ष उदयनारायण चौधरी ने मुम्बई आतंकी हमले में मार गये सैकड़ों लोगों के प्रति सदन में संवेदना जताने का न तो मौका दिया और न ही सदन के तरफ से कोई संवेदना व्यक्त की। यह संवेदनहीन सत्ता पक्ष और सरकार का ज्वलंत उदाहरण है। एक तरफ इस आतंकी हमले से देश ही नहीं पूरा विश्व मर्माहत है पर बिहार विधानसभा मार गये निर्दोष लोगों के प्रति दो शब्द कहने से भी कतरा रही है।ड्ढr ड्ढr आरएसएस के साथ बैठकर शासन चालने वाले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लोगों के मरवाने और कटवाने में भी सहयोग कर रहे हैं। जदयू का मोदी और साध्वी प्रज्ञा के साथ होने का खामियाजा अब राज्य भुगत रहा है। सदन में शोक प्रकाश के अवसर पर मुम्बई आतंकी हमले की बात उठाने वाले श्याम रजक ने इस अवसर पर कहा कि शहीद करकर के परिजनों द्वारा गुजरात के मुख्यमंत्री नरन्द्र मोदी का आर्थिक सहयोग ठुकराने का असर बिहार में दिख रहा है। यह काफी खेदजनक है और सरकार ने साबित कर दिया है कि वह मुम्बई हमले में मार गये निर्दोषों के प्रति संवेदनशील नहीं है। भाजपा की बैशाखी पर शासन चलाने वाले नीतीश कुमार सदन की परम्परा भी भूल गये हैं। भाजपा जो चाहती है उसी का पालन श्री कुमार कर रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दिवंगत नेताओं को दी गई श्रद्धांजलि