अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीबीए नामांकन अवैध ठहराए जाने का मामला: अभिभावकों का हंगामा

पटना कॉलेज के बीबीए कोर्स में नामांकन को अवैध ठहराए जाने का अभिभावकों ने जमकर विरोध किया। मंगलवार को पटना कॉलेज में बुलाई गई बैठक में अभिभावकों के सवालों के समक्ष कॉलेज प्रशासन की बोलती बंद हो गयी। बैठक में पुलिस प्रशासन को भी बुलाया गया था लेकिन अभिभावकों ने उनकी परवाह किए बिना जमकर अपनी भड़ास निकाली। उन्होंने स्पष्ट किया कि चाहे तो उनके बच्चों के नामांकन को वापस लिया जाए अन्यथा वे भी आंदोलन के लिए सड़क पर उतरने को बाध्य हो जायेंगे। अभिभावकों के आक्रोश को देखते हुए गुरुवार की शाम चार बजे कुलपति डा. श्याम लाल उनके प्रतिनिधिमंडल से मिलेंगे। हालांकि कॉलेज प्रशासन ने साफ कर दिया है कि नामांकन पूरी तरह से अवैध है और किसी भी स्थिति में इसे मान्य नहीं करार दिया जा सकता। मंगलवार की सुबह पटना कॉलेज सभागार में जसे ही बैठक शुरू हुई अभिभावकों ने हंगामा शुरू कर दिया।ड्ढr ड्ढr हालांकि प्राचार्य डा. रासबिहारी सिंह ने उनको बताया कि बीबीए के पूर्व समन्वयक डा. पीसी वर्मा द्वारा बिना विवि प्रशासन की अनुमति के नामांकन ले लिया गया। इसके बाद अभिभावकों ने पूछा कि आखिर इसमें हमार बच्चों की क्या गलती थी। उन्हें तो बुलाकर नामांकन दिया गया। अब विवि प्रशासन इन छात्रों के नामांकन को सही घोषित करे अन्यथा इस मामले को लेकर एक बड़ा आंदोलन होगा जिसमें छात्रों के साथ उनके अभिभावक भी शामिल होंगे। हालांकि अभिभावकों को चुप कराने का प्रयास वहां मौजूद पुलिस प्रशासन द्वारा किया गया लेकिन अभिभावक डटे रहे। बाद में अभिभावकों ने कहा कि हमारा प्रतिनिधिमंडल कुलपति से मिलकर उन्हें पूर मामले से अवगत कराएगा और तब भी कोई निर्णय छात्रों के हित में नहीं होता तो आगे की रणनीति तैयार की जाएगी। वहीं प्राचार्य ने बैठक के बाद कहा कि हमने अभिभावकों को पूर मामले की जानकारी देने का प्रयास किया लेकिन उनका रवैया सहयोगात्मक नहीं रहा। बैठक में वे कुलपति से मिलने की जिद करते रहे और इसको देखते हुए बैठक का समय निर्धारित किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बीबीए नामांकन अवैध ठहराए जाने का मामला: अभिभावकों का हंगामा