DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत पेट्रोलियम शास्त्री हॉकी चैंपियन

इंडियन ऑयल की लाइन-अप पर नजर दौड़ाएं तो साफ नजर आता है कि जसे पूरी भारतीय हॉकी टीम ही खेल रही हो। इस टीम में दीपक ठाकुर, राजपाल सिंह, दीदार सिंह और प्रभजोत जसे स्टार शामिल थे लेकिन उनके खेल से कहीं भी एसा नहीं लगा कि स्टार खेल रहे हैं। न कोई मूवमेंट, न कोई तालमेल। गुड़गांव के नेहरू स्टेडियम में खेले गए शास्त्री हॉकी के फाइनल में युवा खिलाड़ियों से सजी भारत पेट्रोलियम ने इंडियन ऑयल को पूर मैच में बैकफुट पर रखा। यहां तक कि वहां मौजूद राष्ट्रीय कोच हरन्द्र सिंह भी इन स्टार खिलाड़ियों के खेल को देख हैरान थे। भारत पेट्रोलियम की टीम एक सप्ताह में यह दूसरा फाइनल खेल रही थी। नेहरू हॉकी के फाइनल में उसके सामने थी इंडियन कोल्ट्स के नाम से खेल रही भारतीय जूनियर टीम। इसमें भारत पेट्रोलियम उपविजेता रहा था लेकिन उस कमी को इस टीम ने शास्त्री हॉकी में पूरा कर दिया। 2-0 से मुकाबला जीत भारत पेट्रोलियम चैंपियन बनी। पूर 70 मिनट तक भारत पेट्रोलियम की टीम इंडियन ऑयल पर हावी रही। खेल का स्तर क्या रहा होगा इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि मैच में एकमात्र पेनल्टी कॉर्नर मिला वह भी 6वें मिनट में। हां, भारत पेट्रोलियम के युवा खिलाड़ियों अमर अयम्मा, हरी प्रसाद और तुषार खांडेकर की तारीफ करनी होगी जिन्होंने इंडियन ऑयल की रक्षापंक्ित को कई बार भेदा। हां, इंडियन ऑयल के गोलकीपर बलजीत सिंह ने कई अच्छे बचाव नहीं किए होते तो हार का अंतर कहीं ज्यादा होता। भारत पेट्रोलियम के लिए पहला गोल 17वें मिनट में हरी प्रसाद ने किया। दाएं छोर से अमर अयम्मा से डी के अंदर मिली गेंद को हरी ने गोल पोस्ट की ओर दिशा देने में कोई गलती नहीं की। दो मिनट बाद ही पेट्रोलियम के सबसे अनुभवी खिलाड़ी साबू वर्की ने दाएं छोर से शानदार मूव बनाते हुए गेंद को तुषार की ओर बढ़ाई लेकिन तुषार निशाना चूक गए। मध्यांतर से छह मिनट पहले हरी प्रसाद के क्रॉस पर अयम्मा इंडियन ऑयल के गोलकीपर को चकमा देने में सफल नहीं हो सके। इंडियन ऑयल की ओर से पेट्रोलियम के गोलमुख पर एकमात्र हमला हुआ 41वें मिनट में। प्रभजोत के पास पर राजपाल सिंह पेट्रोलियम के गोलकीपर स्विंदर सिंह को डिगा नहीं सके। पेट्रोलियम की ओर से दूसरा गोल 54वें मिनट में अयम्मा की स्टिक से आया। हरी प्रसाद ने गेंद को डी की ओर बढ़ते तुषार की ओर दिशा दी। तुषार ने जसे ही देखा कि दो-तीन डिफेंडर सामने आ चुके हैं उन्होंने अयम्मा को बैक पास दिया जिस पर अयम्मा ने कोई गलती नहीं की। अयम्मा को टूर्नामेंट का बेस्ट प्लेयर भी चुना गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भारत पेट्रोलियम शास्त्री हॉकी चैंपियन