DA Image
26 मई, 2020|5:38|IST

अगली स्टोरी

परीक्षा में फेल होने के डर से छात्र ने चाान दी

पढ़ाई का बोझ और नाकामी का भय। बस इसी हौव्वे ने एक छात्र कीोान ले ली। ठाकुरगां में कोचिंग संचालक के इकलौते बेटे सौरभ (16) ने पिता की लाइसेंसी बंदूक से गोली मारकर खुदकुशी कर ली। उसका खून से लथपथ शव सोफे पर पड़ा मिला। सौरभ ने छमाही परीक्षाएँ खराब होने और बोर्ड परीक्षा में नाकामी का भय की वाह से यह कदम उठाने का क्रूर सच एक रािस्टर में लिखा है।ड्ढr मल्लाही टोला निवासी अवधेश मिश्रा मछली मंडी, दुबग्गा में कोचिंग चलाते हैं। बेटा सौरभ छमाही परीक्षाएँ दे रहा था। बुधवार को सौरभ की सामाािक विज्ञान की परीक्षा थी। तड़के पिता ने उसे पढ़ने के लिए उठाया था। वह बगल के कमर में पढ़ने चला गया और पिता सो गए। एक दिन पहले उसकी रसायन विज्ञान की परीक्षा खराब हो गई थी। उसका भौतिक विज्ञान का पेपर भी बिगड़ गया था। इसे लेकर सौरभ बेहद तनाव में था। उसने पिता के तकिए के नीचे रखी अलमारी की चाभी चुपके से निकाल ली और दूसर कमर से उनकी लाइसेंसी बंदूक निकाल ली। रािस्टर में सुसाइड नोट लिखकर सौरभ ने सीने से रायफल सटाकर खुद को गोली मार ली। अवधेश के मुताबिक ठंड की वाह से कमर का दरवा बंद था। वह गोली की आवाा नहीं सुन सके। करीब साढ़े छह बो वह कमर में गए तो देखा कि सामने सोफे में बेटे का खून से लथपथ शव पड़ा था। एसओ ठाकुरगां केपी सिंह के मुताबिक सौरभ ने सुसाइड नोट में लिखा है कि ...पापा मेरा रसायन का पेपर इतना खराब हो गया,ोितना सोचा भी नहीं था। भौतिक विज्ञान की परीक्षा भी खराब हुई थी। ..बोर्ड में भी ऐसा न हो इसलिए आत्महत्या कर रहा हूँ।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: परीक्षा में फेल होने के डर से छात्र ने चाान दी