DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चर्चा के डर से भाग रहा विपक्ष : मोदी

उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि जनता की समस्याओं पर चर्चा से डरने और सिर्फ पब्लिसिटी करने के लिए विपक्ष विधानमंडल के चालू सत्र का बहिष्कार कर रहा है। अपने शासन काल में मात्र एक दिन का सत्र आहुत करने वाले विपक्ष को सत्र छोटा कहने का अधिकार ही नहीं है। वहीं संसदीय कार्यमंत्री रामाश्रय प्रसाद सिंह एवं राजग संयोजक नन्द किशोर यादव ने कहा कि सरकार विपक्ष के तीनों विशेष प्रस्ताव पर बहस को तैयार है। पांच दिनों के सत्र में ही मुम्बई में बिहारियों पर अत्याचार, कोसी की प्रलयंकारी बाढ़ और अल्पसंख्यकों के उन्नयन तीनों विषयों पर विमर्श हो जाएगा। इसके अलावा भी विपक्ष के पास और कोई मुद्दा है तो सरकार सत्र बढ़ाने को तैयार है। विपक्ष पहले मुद्दा तो बताये। पर उनके पास मुद्दे हैं नहीं और यही कारण है कि बहस से भागने के लिए विपक्ष सत्र का बहिष्कार कर रहा है।ड्ढr ड्ढr उधर श्री मोदी ने कहा कि विपक्ष सदन से वॉक आउट नहीं करं और यह सुनिश्चित कर कि सरकार का जवाब भी वह धैये से सुनेगा तो सरकार को सत्र बढ़ाने में कोई आपत्ति नहीं है। सत्र विधायी कार्यो के लिए होता है न कि प्रश्नकाल या वाद-विवाद के लिए। सदन चलता है तो प्रश्नकाल और अन्य कार्य भी होते हैं। पांच बैठकों में विधायी कार्य सम्पन्न हो जा रहा है। मुख्य विपक्षी दल को अपना कार्यकाल याद नहीं है। वर्ष 10 में एक दिन, 1में तीन दिन, 1में पांच दिन, 1में तीन दिन और 2000 में दो दिन का सत्र चलाने वाले मुख्य विपक्षी दल को अब सत्र छोटा लग रहा है। संसद में अविश्वास प्रस्ताव आ जाने के डर से पिछले छह महीने से सत्रावसान नहीं करने वाला यूपीए विधानमंडल के चालू सत्र को छोटा कह राजनीति कर रहा है। यहां गैरजिम्मेदार विपक्ष है। कोसी की चर्चा करने वाले विपक्ष को कोसी आयोग की रिपोर्ट मिलने के बाद यह बताना होगा कि रल और सेल का कितना पैसा राहत में खर्च हुआ और कहां गया।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चर्चा के डर से भाग रहा विपक्ष : मोदी