DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बूथ पर पहुंचे, इंक लगवाई, मगर वोट नहीं

मध्य प्रदेश के 16 संसदीय क्षेत्रों में 2608 मतदाताआें ने एक बार फिर जन प्रतिनिधित्व कानून के तहत मिले अधिकार का उपयोग कर किसी भी उम्मीदवार को वोट नहीं दिया। इन मतदाताआें को चुनाव मैदान में एक भी उम्मीदवार चुनने के योग्य नहीं लगा। इसीलिए वे मतदान केन्द्र तक तो पहुंचे मगर उन्होंने वोट किसी को नहीं दिया। इस बार के लोकसभा चुनाव में नेताआें के प्रति मतदाताआें में गुस्सा साफ नजर आया और उन्होंने अपनी इस नाराजगी का खुलासा भी किया है। मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय मिली जानकारी के मुताबिक ये मतदाता मतदान केन्द्रों तक पहुंचे, उन्होंने अंगुली में स्याही लगवाई और रजिस्टर में नाम भी दर्ज करावाया, लेकिन वोट किसी को भी नहीं दिया। चुनाव आयोग ने ऐसे मतदाताआें के संदर्भ में जानकारी रखने की व्यवस्था की है। मतदान केन्द्रों पर पहुचने के बाद भी वोट न डालने वाले इन मतदाताआें का इसलिए हिसाब रखा जाता है ताकि कोई मतदाता शिकायत दर्ज न करा सके। यह व्यवस्था जन प्रतिनिधित्व कानून 1में की गई है और इसे 4आे नाम दिया गया है। प्रदेश में तृतीय चरण के दौरान 16 संसदीय क्षेत्रों में मतदान हुआ है, जहां कुल 231 उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक 16 संसदीय क्षेत्रों में 2608 ऐसे मतदाता है, जिन्होंने किसी भी उम्मीदवार को वोट न देने के अपने अधिकार का इस्तेमाल किया। श्योपुर में पांच, भिन्ड में छह, ग्वालियर में 476, दतिया में छह, शिवपुरी में सात, गुना में चार, अशोक नगर में आठ, सीहोर में एक, खंडवा में दो, बुरहानपुर में दो, खरगोन में आठ, झाबुआ में छह, धार में सात, सागर में 402, छतरपुर में 337, दमोह में 14इन्दौर में 178, उज्जन 175, टीकमगढ़ में 14, राजगढ़ में 24, देवास में 10, रतलाम में 12 और मंदसौर में 14 मतदाताआें ने मतदान केन्द्र पर पहुंचकर भी अंतिम समय में वोट न डालने का निर्णय लिया। दूसरे चरण के दौरान 23 अप्रैल को जिन 13 संसदीय क्षेत्रों में मतदान हुआ था वहां भी 1473 मतदाताआें ने अपने अधिकार का प्रयोग कर किसी को वोट नहीं दिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बूथ पर पहुंचे, इंक लगवाई, मगर वोट नहीं