DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आतंकवाद का कोई धर्म नहीं होता : इरफान

यह कार्यक्रम तो था एक टेलीकॉम कंपनी के इरफान पठान और यूसुफ पठान को अपना ब्रैंड एम्बेस्डर बनाने की घोषणा करने का। लेकिन सवाल कंपनी और क्रिकेट को लेकर कम मुंबई में पिछले दिनों हुए आतंकी हमले को लेकर ज्यादा थे। पठान बंधुओं ने भी जसे इसके लिए कमर कस रखी थी। उन्होंने हर सवाल का जवाब बिना किसी लाग लपेट के देते हुए आतंकी कार्रवाई की जमकर निंद की। भारत के तेज गेंदबाज इरफान पठान मुंबई में हुए आतंकी हमले को लेकर बहुत गुस्से में हैं। उन्होंने इसे शर्मनाक करार देते हुए कहा, ‘मुंबई में जो कुछ हुआ उससे हर भारतीय की तरह मैं भी गुस्से में हूं। हम उस रात हम कटक में मैच खेल कर हटे ही थे कि तभी यह पता चला कि मुंबई में आतंकी हमला हो गया है। हम आम तौर पर मैच के बाद टीवी पर यह सुनते और देखते हैं कि मैन ऑफ द मैच चुना गया खिलाड़ी क्या बोला है। लेकिन उस रात एकदम से टीवी पर आतंकी हमले का फ्लैश चल पड़ा था। खबर पता चलने के बाद हम टीवी देखने बैठे तो सारी रात देखते ही रह गए। बहुत ही दुखद मंजर था।’ भारत में आतंक के साथ एक धर्म विशेष के लोगों का नाम सामने आने के एक सवाल के जवाब में इरफान ने कहा, ‘आतंकवाद का कोई धर्म नहीं होता। कोई धर्म हत्या करना या आतंक फैलाना नहीं सिखाता है। आतंकवाद गलत है। मुंबई में जो हुआ उससे मुझे भी उतना ही दुख और गुस्सा है जितना कि किसी दूसर भारतीय को। इसके बाद से मैदान में उतरने को लेकर मेर मन में कोई डर नहीं है। हम युवा हैं और हमें इस बात पर गुस्सा आता है कि,ाो कुछ हो रहा है उसे रोकने के लिए हम कुछ क्यों नहीं कर पाते?’ देश भर में आतंक के इस माहौल में क्या क्रिकेटरों को भी अतिरिक्त सुरक्षा मिलनी चाहिए? इस पर इरफान ने कहा, ‘जसे हालत चल रहे हैं, उसमें सिर्फ क्रिकेटरों को ही नहीं बल्कि पूर इंडिया को सुरक्षा मिलनी चाहिए। हर कोई बराबर है। आप होटल में आते हुए देख ही रहे होंगे कि सुरक्षा बढ़ गई है। परशानी होगी लेकिन इस पर किसी को नाराज नहीं होना चाहिए। मेर अपने कई दोस्तों से बात हो रही थी, उनमें सेलिब्रेटी भी हैं। सबकी इच्छा है कि लोग परशानी उठाएं, लेकिन सुरक्षा में सहयोग दें। क्योकि जान सबसे बड़ी चीज है। पैसा तो आता जाता रहता है।’ पठान बंधुओं को टाटा टेलीसर्विसेज लिमिटेड का ब्रांड एम्बेस्डर बनाया गया है। आतंकवाद की वजह से 2011 के विश्व कप को खतरा है, इस पर आप क्या कहेंगे? इरफान ने कहा, ‘ अभी यह विश्व कप बहुत दूर है। अभी कुछ नहीं कहा जा सकता। क्रिकेट को आतंकवाद से ज्यादा नुकसान नहीं होगा क्योंकि यहां लोग क्रिकेट को बहुत पसंद करते हैं।’ यूसुफ से यह पूछने पर कि आप बड़े भाई हैं, लेकिन इरफान को आपसे पहले और ज्यादा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने का अनुभव है। ऐसे में आप में से कौन किसको टिप्स देता है? यूसुफ ने मुस्कुराते हुए जवाब दिया, ‘अब तो हम दोनों ही एक दूसर को टिप्स देते रहते हैं।’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आतंकवाद का कोई धर्म नहीं होता : इरफान