DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गृहरक्षकों का विरोध प्रदर्शन व जुलूस

सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए गृहरक्षकों ने ‘करो या मरो’ के नार के साथ गुरुवार को आंदोलन का बिगुल बजा दिया। राज्य भर से एकत्र हुए गृहरक्षकों के जुलूस को मुख्यमंत्री के साथ ही विधान सभा के समक्ष घेराव या प्रदर्शन करने से पहले पुलिस-प्रशासन ने आर. ब्लॉक चौराहे पर रोक दिया। इससे पूर्व बिहार रक्षावाहिनी स्वयं सेवक संघ के प्रधान महासचिव रामनरश सिंह के नेतृत्व में गृहरक्षकों का विरोध प्र्शन और जुलूस हार्डिग पार्क से निकल कर जी.पी.ओ. गोलंबर, स्टेशन रोड, फ्रजर रोड, डाकबंगला चौराहा होते हुए गांधी मैदान स्थित जे.पी. गोलंबर पहुंचा।ड्ढr ड्ढr फिर वहीं से उसी रास्ते आंदोलनकारी वापस आर. ब्लॉक तक पहुंचे। पुलिस द्वारा आगे बढ़ने से रोकने के बाद आर.ब्लॉक के समीप गृहरक्षक धरना पर बैठ गये। इस मौके पर प्रधान महासचिव ने चेतावनी दी कि अगर गृहरक्षकों की समस्याओं का समाधान जल्दी नहीं किया गया तो आगे उग्र आंदोलन किया जायेगा। संघ की मांगों में होमगार्ड संशोधित नियमावली 2005 को रद्द करने, सैप की तरह होमगार्ड को निर्धारित मानदेय व 60 वर्ष की नियुक्ित, कर्तव्य भत्ता 250 रुपये प्रतिदिन देने, वर्दी, महंगाई, मेडिकल व वर्दी धुलाई भत्ता के रूप में प्रतिवर्ष साढ़े चार हजार नकद देने, पेंशन या एकमुश्त सेवानिवृत्ति भत्ता 2.5 लाख देने, अगस्त महीने में गृह सचिव के साथ हुई बैठक में निर्णय लागू करना आदि शामिल हैं। ‘नीतीश सरकार पूरी तरह छात्र विरोधी’ड्ढr पटना (सं.सू.)। नीतीश सरकार ने बिहार के छात्र-नौजवानों और आम जनता से विश्वासघात किया है। इस सरकार के नेतृत्व में भी सामंती शक्ितयों का राज बदस्तूर जारी है। रोगार की तलाश में नौजवान दूसर राज्यों में जा रहे हैं। ये बातें आइसा, इनौस और यूथ फॉर सोशल जस्टिस द्वारा विधानसभा के समक्ष आयोजित धरने को संबोधित करते हुए इनौस के महासचिव कमलेश शर्मा ने कहीं। उन्होंने कहा कि नीतीश सरकार पूरी तरह छात्र विरोधी है। आइसा के राज्य सचिव अभ्यूदय और यूथ फॉर सोशल जस्टिस के अवधेश कुमार लालू ने कहा कि अब समय आ गया है कि छात्र अपने अधिकार के लिए जागरूक हो जाएं। उन्होंने धरने के माध्यम से छात्रों को 12 दिसम्बर को संसद घेराव कार्यक्रम में दिल्ली में पहुंचकर राहुल के हत्यार से हिसाब मांगने और राज ठाकर पर आपराधिक मुकदमा चलाने की मांग की। उन्होंने कहा कि नीतीश के राज में अधिकार मांगने वाले छात्रों पर पुलिस द्वारा लाठियों से पिटवाया जाता है। धरना में भाकपा-माले केन्द्रीय कमेटी के सदस्य केडी यादव, विधायक अरुण कुमार सिंह, मार्कण्डेय पाठक, कुमार परवेज, डा. प्रकाश, पुरुषोत्तम, मनोज, अभिनव, कौशिक, चन्द्रशेखर, अनीता, रमीज, अमित, संजीत, राहुल विकास आदि मौजूद थे।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: गृहरक्षकों का विरोध प्रदर्शन व जुलूस