अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार पर भी मंदी का संकट : मोदी

उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि बिहार पर भी मंदी का संकट मंडरा रहा है और अगर हालात ऐसे ही रहे तो हम मंदी की चपेट में आ सकते हैं। श्री मोदी ने छठे वेतन आयोग की अनुशंसाओं को लागू करने के लिए भी केन्द्र से सहयोग मांगा और उनसे 50 फीसदी बोझ उठाने की गुहार लगाई। उन्होंने कहा कि इस समय छठे वेतन आयोग की अनुशंसा लागू करने से बिहार की वित्तीय स्थिति चरमरा जाएगी। यही नहीं विकास कार्यो पर भी इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। सोमवार को विधानसभा में श्री मोदी ने बताया कि तीन तरह से बिहार पर मंदी का खतरा है। मंदी के कारण केन्द्रीय करों में में हिस्सेदारी घट सकती है। उधर झारखंड में आर्थिक मंदी की मार का असर साफ दिखने लगा है। बड़ी कंपनियों से सम्बद्ध 500 से अधिक लघु उद्योगों की स्थिति चरमराने लगी है। वर्क ऑर्डर की कमी के साथ-साथ कई उद्योगों द्वारा बनाये गये सामान की डिलीवरी भी निर्धारित समय पर नहीं ली जा रही है। इससे उद्यमियों में चिंता की लहर है। कई बड़ी कंपनियों ने छोटी यूनिटों को ऑर्डर देना तो बंद कर ही दिया है, बकाये राशि का भुगतान करने में भी असमर्थता जता रही हैं। मुसीबत इन इकाइयों में कार्य करनेवाले कामगारों के समक्ष उठ खड़ी हुई है। रोी-रोटी का संकट दिखायी पड़ने लगा है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बिहार पर भी मंदी का संकट : मोदी