अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘नालंदा में रुक जाती पटना से निकली विकास राशि’

नजर लागी राजा तोर बंगले पर! नालन्दा ‘माननीय’ के निशाने पर है जो यह समझ नहीं पा रहे कि वहां विकास की रफ्तार तेज क्यों हैं और क्यों पटना से निकली विकास राशि रूपी गंगा का बहाव नालन्दा में ठहर जाता है? यह बात माननीय के दिल में रहती तो शायद किसी को पता भी नहीं चलता लेकिन दिल की उठने वाली टीस सोमवार को शूल बन गयी। शायद इसी कारण विधानसभा में जदयू के ललन पासवान और निर्दलीय सदस्य प्रदीप कुमार ने नालंदा को मुद्दा बना दिया।ड्ढr ड्ढr शुरूआत प्रश्नकाल में हुई पर मामला ध्यानाकर्षण तक छाया रहा। ललन पासवान द्वारा रोहतास के अमझोर में बीएमपी का प्रशिक्षण केन्द्र खोलने संबंधी प्रश्न पर जल संसाधन मंत्री विजेन्द्र प्रसाद यादव ने बताया कि नालन्दा में प्रशिक्षण केन्द्र खोला जा रहा है। उनका इतना कहना था कि श्री पासवान भड़कते हुए बोले- उग्रवाद की चपेट में रोहतास है और केन्द्र खुलेगा नालन्दा में। यह तो सौतेलापन है हमार जिले के साथ। अगर अमझोर में केन्द्र खुलता तो इसका अच्छा ‘इफेक्ट’ पड़ता। सरकार को जवाब देना पड़ेगा। दूसरी ओर प्रदीप कुमार ध्यानाकर्षण सूचना द्वारा नवादा में सरकारी इंजीनिरिंग कॉलेज खोलने की मांग की लेकिन सरकार के इंकार के बाद उन्होंने यह कहते जरा भी देर नहीं की कि पटना से चलने वाली विकास की राशि नालंदा में ही रूक जाती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ‘नालंदा में रुक जाती पटना से निकली विकास राशि’