अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘मुझे तो अभिनव का मैडल पसंद है’

भारत के स्टार मुक्केबाज अखिल ने विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप में जीत के साथ आगाज किया है। क्वार्टर फाइनल मुकाबले में उन्होंने जर्मनी के मार्सेल श्नीडर को एकतरफा मुकाबले में 15-6 से शिकस्त दे। इस तरह अखिल ने विश्व चैंपियनशिप में एक पदक तो पक्का कर लिया है लेकिन अखिल की आगे की राह आसान नहीं होगा। उनके स्वर्ण जीतने की राह में अब बीजिंग ओलंपिक के रात और कांस्य विजेता के साथ-साथ विश्व चैंपियन मुक्केबाज भी होंगे। सेमीफाइनल में अखिल का मुकाबला बीजिंग ओलंपिक के सेमीफाइनलिस्ट क्यूबा के यांकील लिओन अलारकॉन से होगा। विश्व चैंपियनशिप का पहला राउंड जीतने के बाद अखिल ने बीजिंग से फोन पर कहा, ‘इस जीत से कांस्य जरूर पक्का हो गया लेकिन मुझे तो अभिनव बिंद्रा वाला मैडल ही पसंद है। मैं हमेशा यही कहता रहा हूं कि असल पदक तो स्वर्ण ही होता है।’ सेमीफाइनल में आपको बीजिंग ओलंपिक के रनर-अप के सामने रिंग में उतरना है, क्या उम्मीद है? कहते हैं, ‘हारूं या जीतूं, इतना वादा करता हूं भारतीय मुक्केबाजी को यहां भी पहचान दिला कर ही लौटूंगा।’ आज के मुकाबले के बार में उन्होंने कहा, ‘बीजिंग ओलंपिक के बाद पहली बार रिंग में उतरा था इसलिए थोड़ी मुश्किल जरूर हुई लेकिन जल्द ही मैंने खुद को संभाल लिया।’ अलारकॉन ने क्वार्टर फाइनल बोत्स्वाना के खुमिशो इकगोपोलेंड को 7-0 से शिकस्त दी। विश्व चैंपियन सर्गेइ वोदापायानोव और बीजिंग ओलंपिक के कांस्य विजेता गोजां ने इस 54 किलो वर्ग के अपने-अपने मुकाबले आसानी से जीत लिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ‘मुझे तो अभिनव का मैडल पसंद है’