अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुरक्षा में प्राद्योगिकी प्रदाता निभाएं भूमिका : पीएम

मुंबई में हुए आतंकवादी हमलों के मद्देनजर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने गुरुवार को कहा कि आतंकवादियों के हाथों अत्याधुनिक संचार प्रौद्योगिकी का दुरुपयोग रोकने के लिए सुरक्षा एजेंसियों तथा प्रौद्योगिकी एवं संबंधित उपकरण बनाने वाले उद्योग और सेवा प्रदाताआें के बीच प्रभावी सामंजस्य एवं सहयोग जरूरी है। प्रधानमंत्री ने दूरसंचार सम्मेलन एवं प्रदर्शनी ‘इंडिया टेलीकॉम-2008’ उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि आधुनिक प्रौद्योगिकी देश के विकास के लिए जरूरी है। लेकिन हमें यह भी ध्यान में रखना है कि आतंकवादी तथा असामाजिक तत्व इसका गलत इस्तेमाल करते हैं। वे अपनी पहचान छिपाने में भी इसका उपयोग करते हैं। उन्होंने कहा कि यह देखते हुए देश की सुरक्षा एजेंसियों और प्रौद्योगिकी निर्माताआें, उद्योग तथा उससे जुड़े संस्थानों के बीच बेहतर रचनात्मक सहयोग एवं समन्वय होना चाहिए। डॉ. सिंह ने प्रतिस्पर्धा को आर्थिक प्रगति के लिए जरूरी बताया लेकिन कहा कि दूरसंचार तथा अन्य ढांचागत क्षेत्रों में निष्पक्ष नियमन भी आवश्यक है। उन्होंने देश में सॉफ्टवेयर के साथ-साथ हार्डवेयर निर्माण को बढ़ावा देने की आवश्यकता पर जोर देते हुए कहा कि इसे एक विनिर्माण केंद्र भी बनाना होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सुरक्षा में प्राद्योगिकी की अहम भूमिका : पीएम