DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बदले की भावना नहीं रखूंगा : गहलोत

ांग्रेस सरकार जनता के ट्रस्टी के रूप में काम करगी। राजस्थान के नवनियुक्त मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को पद संभालने के बाद सचिवालय में संवाददाताओं से बातचीत के दौरान यह बात कही। गहलोत ने कहा कि नौकरशाह और हम ट्रस्टी हैं तथा इसी सिद्धांत पर काम करंगे। उन्होंने कहा कि इस बार भी उनकी सरकार घोषणा पत्र के आधार पर ही कार्य करगी। गहलोत शपथ लेने के बाद सचिवालय आकर सीधे महात्मा गांधी की मूर्ति पर माल्यार्पण करने गए, जिसे उनके पिछले कार्यकाल में ही स्थापित किया गया था। मुख्यमंत्री ने कहा कि खजाने पर पहला हक गरीब का है। इसके साथ ही उन्होंेने गरीबी रखा से नीचे के लोगों का पूरा इलाज सरकारी खर्च पर करने के निर्देश दिये। उन्होंने मुख्य सचिव एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारियों से विचार-विमर्श कर इस बार में तीन दिन में रिपोर्ट पेश करने को कहा। उन्होंेने कहा कि इस तरह की व्यवस्था की जानी चाहिये कि गरीबों को इलाज के लिये एक भी पैसा खर्च ना करना पड़े। भाजपा सरकार के कार्यकाल में अनियमितताओं के बार में गहलोत ने कहा कि बदले की भावना से कोई काम नहीं होगा लेकिन मामले की तह तक जाया जाएगा। उन्होंने कहा कि उनके पहले कार्यकाल में लोगों की सुविधा के लिये बनाई गई भू उपयोग नियम की धारा 0 बी का भाजपा सरकार के समय जमकर दुरूपयोग हुआ है। इसकी समीक्षा की जाएगी। पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के वित्तीय प्रबंधन के बेहतरीन होने के दावे को नकारते हुए गहलोत ने कहा कि यदि ऐसा होता तो राज्य पर र्का का भार क्यों बढ़ता जबकि केन्द्र की सहायता में बढ़ोतरी के कारण सभी राज्यों की हालत अच्छी बनी हुई है। मुख्यमंत्री ने शराब दुखांतिका में मार गए लोगों के परिानों को मुआवजा राशि पचास हाार से बढ़ा कर एक लाख रूपये करने की घोषणा की। उन्होंेने कहा कि आबकारी नीति के नियमों की सही तरीके से पालन होना चाहिए और धार्मिक स्थलों के पास शराब की दुकान नहीं खुलनी चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बदले की भावना नहीं रखूंगा : गहलोत