अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गिरोह के सदस्यों से की गई कड़ी पूछताछ

शनिवार को बेऊर थाना क्षेत्र से गिरफ्तार अंतराष्ट्रीय गिरोह के सदस्यों से रविवार को भी कड़ी पूछताछ की गयी। मामला उजागर होने के बाद से ही रलवे विभाग में हड़कंप मच गया है। कोई भी पदाधिकारी या कर्मचारी इस मामले में कुछ भी बताने से हिचक रहे हैं।ड्ढr पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पूछताछ के क्रम में गिरफ्तार युवकों ने कई महत्वपूर्ण राज खोले हैं। जांच प्रभावित होने को लेकर पुलिस इस मामले में काफी सावधानी बरत रही है। मालूम हो कि रलवे परीक्षा में बेरोजगार युवकों को फर्जी ढंग से नौकरी दिलाने वाले गिरोह के सात सदस्यों क ो पुलिस ने धर दबोचा था। पटना पुलिस के लिए यह एक काफी बड़ी उपलब्धि मानी जा रही है, क्योंकि राजधानी में अब तक इस तरह का इतना बड़ा भंडाफोड़ नहीं हुआ था। पुलिस अब गिरफ्तार युवकों के माध्यम से पूर गिरोह को खंगालना चाह रही है।ड्ढr ड्ढr पुलिस इस बात की भी जांच कर रही है कि कहीं इसमें खार्की या खादी वर्दी का हाथ तो नहीं। इधर पुलिस का मानना है कि इतनी बड़ी रैकेट चलाने वाला धंधेबाज उंची पहुंच रखता है। इसका कारण यह बताया जाता है कि इस गिरोह का तार पूर भारत वर्ष के रलवे भर्ती बोर्ड से जुदा हो सकता है। इसके अलावा अन्य प्रतियोगिता परीक्षा में भी ये जालसाज नौकरी दिलाने का झासा देते थे। जब्त प्रमाण पत्रों के दर्शन मात्र से ही यह स्पष्ट होता है कि जालसाजी का यह कारोबार इतने सटिक एवं सुनियोजित ढंग से होता कि किसी को इस पर शक की कोई गुंजाइश ही नहीं रहती। हद तो यह है कि प्रश्न पत्र, उत्तर पुस्तिका ही नहीं सर्विस बुक तक जालसाज उन युवकों को उपलब्ध करा देते थे।ड्ढr सूत्र बताते हैं कि इन जालसाजों द्वारा कुछ युवकों को नौकरी भी दी गयी है। पुलिस उसकी भी पहचान करने में जुटे हैं। माना जा रहा है। जा रहा है कि जल्द ही इस मामले कई चौकाने वाली तथ्य सामने आयेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: गिरोह के सदस्यों से की गई कड़ी पूछताछ