DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

और कम हो सकते हैं पेट्रोल के दाम

सरकार ने मंगलवार को इस बात के संकेत दिए कि अगर अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के भाव इसी प्रकार गिरते रहे तो पेट्रोल और डीाल की कीमतों में और भी कटौती की जा सकती है। गृह मंत्री पी.चिदंबरम राज्यसभा में प्रश्नकाल के दौरान पूरक प्रश्नों का उत्तर देते हुए यह जानकारी दी। उनका कहना था कि हम कच्चे तेल के दामों पर नजर रखेंगे और देखेंगे कि कीमतों में आगे क्या और कटौती संभव है? प्रधानमंत्री की जगह पूर्व वित्तमंत्री पी.चिदंबरम वित्त मंत्रालय से संबंधित प्रश्नों का उत्तर दे रहे थे। उन्होंने आश्वासन दिया कि सरकार मूल्य कटौती की मांग पर विचार करगी। कच्चे तेल के प्रति बैरल मूल्यों में भारी गिरावट के कारण सरकार ने इस माह के प्रारंभ में पेट्रोल में 5 रु. तथा डीाल के मूल्यों में 2 रु. प्रति लीटर की कमी की थी। सरकार ने कहा है कि वैश्विक मंदी का असर रोकने और देश के उत्पादन में वृद्धि के लिए और भी कई कदम उठाए जा सकते हैं। हम स्थिति की सतर्कता पूर्वक निगरानी करेंगे और जरूरत पड़ी तो अर्थव्यवस्था में जान फूंकने के लिए और भी कदम उठाएंगे। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि भारत में आंतरिक आर्थिक मंदी नहीं है, लेकिन उस पर वैश्विक मंदी का असर जरूर पड़ रहा है। लगातार दो तिमाहियों में विकास दर कम होती रहे तब कहा जा सकता है कि आर्थिक मंदी है। खाद्यान्नों, दालों, पेट्रोल, डीाल आदि की कीमतों में वृद्धि के बाद अब इनकी कीमतों में कमी का दौर शुरू हो चुका है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में पे8ट्रोल, डीाल आदि की कीमतों में गिरावट दर्ज होने के बावजूद देश में दालों जसे उत्पादों के दाम घटने के बजाय बढ़ने के सवाल पर चिदंबरम ने कहा कि ऐसा इसलिए हो रहा है, क्योंकि दालों की मांग और आपूर्ति में 60 से लेकर 70 लाख टन के अंतर के कारण उन पर दबाव रहता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: और कम हो सकते हैं पेट्रोल के दाम